आगरा, जागरण संवाददाता। रणभेरी बजते ही श्रीराम और दशानन की सेनाएं जैसे ही नजदीक आयीं, दोनों में घनघोर युद्ध हुआ। श्रीराम ने दशानन की नाभि में तीर से प्रहार किया, तो उसमें से अमृत छलका और मुख से जयश्रीराम कहते हुए रावण धड़ाम हो गया। उसका 100 फीट ऊंचा पुतला धू-धू कर जल उठा। बुधवार को यह दृश्य रामलीला मैदान में चल रहे श्रीरामलीला महोत्सव में जीवंत हुआ, तो चारों दिशाएं जयश्रीराम के जयकारों से गूंज उठीं।

राम लीला मैदान में रावण वध के दौरान का दृश्य।

यह भी पढ़ेंः Dussehra 2022: इनको है रावण से लगाव, दहन होते ही निकल पड़ते हैं आंसू, दशानन पाल रहा पांच पीढ़ियों का पेट

इस तरह हुई आज राम लीला की शुरूआत 

लीला की शुरुआत में दशानन के पाताल में अहिरावण के पास जाने, अहिरावण द्वारा महाराज विभीषण का रूप रखकर श्रीराम-लक्ष्मण का हरण कर पाताल लोक की लीला हुई। विभीषण के बताने पर हनुमान जी पाताल लोक जाकर अहिरावण का वध करके श्रीराम को छुड़ाते हैं। यह जानकार रावण स्वयं युद्धभूमि में उतरते हैं। देवता श्रीराम के लिए भगवान इंद्र का रथ भेजते हैं, जिसमें बैठकर वह घनघोर युद्ध करते हैं। महाराज विभीषण प्रभु श्रीराम को रावण की नाभि में अमृत होने और एक साथ 31 बाण छोड़ने की बात बताते हैं, श्रीराम के ऐसा करते ही रावण के दस सिर व भुजाएं अलग हो जाती हैं और वह युद्ध भूमि में गिर पडते हैं। रावण का तेज प्रभु श्रीराम में समा जाता है, आकाश से पुष्पवर्षा होती है। आतिशबाजी का हुआ आकर्षक प्रदर्शनरामलीला में आतिशबाजी का भव्य मुकाबला हुआ।

खंदौली में रावण दहन के बाद जलता पुतला।

हुआ आतिशबाजी का प्रदर्शन

आमीन खान फायर वर्क्स के आमीन मंसूरी ने आतिशबाजी का प्रदर्शन किया। रंग-बिरंगी रोशनी से रामलीला मैदान परिसर और आकाश सतरंगी छठा में रंग गया। आतिशबाजी से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मन की बात, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का अयोध्या राम मंदिर माडल देखने, दो नागों के युद्ध, राम-मारीच युद्ध, सर्जीकल स्ट्राइक का दृश्य दिखाया गया। बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, नदी बचाओ जैसे सामाजिक संदेश भी दिए गए।

यह भी पढ़ेंः Bengal News: जलपाईगुड़ी में दुर्गा विसर्जन के दौरान बड़ा हादसा, माल नदी में बहे 40 लोग; 7 की मौत

धू-धू कर जल उठा रावण का पुतला

आतिशबाजी के बाद 105 फीट ऊंचे पुतले का दहन हुआ। रावण के पुतले की नाभि में लेजर लाइट से तीर लगा और उसमें से अमृत वर्षा होने लगी। मुख से रक्त धारा के साथ जयश्रीराम की ध्वनि फूटी और रावण का पुतला आतिशबाजी के साथ धू-धू कर जल उठा।

इनका रहा सहयोग 

संचालन मुकेश अग्रवाल, आनंद मंगल, मोहित गोयल, मनोज हौजरी, प्रसून मंगल ने किया। उद्घाटन श्रीरामलीला कमेटी अध्यक्ष विधायक पुरुषोत्तम खंडेलवाल, मंत्री राजीव अग्रवाल, भगवान दास बंसल, मुकेश अग्रवाल, टीएन अग्रवाल, मनोज पोली, रामकिशन अग्रवाल, राहुल गौतम आदि मौजूद रहे।

कल होगा राज्याभिषेक

मीडिया प्रभारी राहुल गौतम ने बताया कि गुरुवार को रामलीला मैदान आगरा पर शाम 5.00 बजे लक्ष्मण जी विभीषण का राज्याभिषेक करेंगे। सीताजी को वापस लाने की लीला के बाद प्रभू श्रीराम अयोध्या के लिए प्रस्थान करेंगे। भरत मिलाप की सवारी रामलीला मैदान से यमुना किनारा, दरेसी, कचहरी घाट, बेलनगंज, धूलियागंज, फुलट्टी बाजार, किनारी बाजार होते हुए रावतपाड़ा पर संपन्न होगी।

हुआ रावण का दहन

आगरा कैंट रेलवे संस्थान के रामलीला महोत्सव में बुधवार को लीला के मंचन के बाद रावण के 20 फीट ऊंचे पुतले का दहन किया गया। इससे पहले आतिशबाजी का प्रदर्शन हुआ, जिसे दर्शकों ने खूब सराहा। बच्चों ने भी किया रावण दहनदशहरा पर शहर के हर गली-मुहल्ले और सोसायटी में बच्चों ने भी रावण के पुतले का दहन किया। नार्थ अर्जुन नगर, महाजन स्ट्रीट निवासी बच्चों ने रावण का पुतला बनाकर दहन किया। पार्श्वनाथ पंचवटी कालोनी में पंडित गिरीश उपाध्याय द्वारा पूजा के बाद रावण के पुतले का दहन किया गया।

आस पास के जिलों में दशानन का घमंड हुआ खाक 

आगरा मंडल के मथुरा, फिरोजाबाद, मैनपुरी, कासगंज और एटा जिले में भी दशानन का मद चूर चूर होकर खाक हो गया। यहां भी बड़े स्तर पर रावण दहन का आयोजन जगह- जगह किया गया।

Edited By: Tanu Gupta

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट