आगरा, जागरण संवाददाता। देश में सिंगल यूज प्लास्टिक पर शुक्रवार से बैन लग गया। प्लास्टिक की बनी 19 वस्तुओं को बैन किया गया है। इनके उत्पादन, भंडारण, बिक्री व वितरण पर अब जुर्माना लगाया जाएगा। हालांकि, मल्टीलेयर प्लास्टिक पैकिंग पर अभी निर्णय नहीं हो सका है। प्लास्टिक प्रदूषण को रोकने की दिशा में अगले चरण में 31 दिसंबर से 120 माइक्रोन की प्लास्टिक से बनी वस्तुओं पर रोक लगाई जाएगी।

पर्यावरण, वन व जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने पिछले वर्ष 21 अगस्त को अधिसूचना जारी की थी। प्लास्टिक प्रदूषण के खात्मे को चरणबद्ध कार्य योजना तैयार की गई थी। शुक्रवार से पालीस्टायरीन और विस्तारित पालीस्टायरीन समेत 75 माइक्रोन तक की सिंगल यूज प्लास्टिक प्रतिबंधित कर दी गई। अगले चरण में 120 माइक्रोन तक के प्लास्टिक के बने आइटम प्रतिबंधित किए जाएंगे।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के प्रभारी अधिकारी कमल कुमार ने बताया कि पर्यावरण संरक्षण को प्लास्टिक प्रदूषण पर रोक लगाना आवश्यक है। संबंधित विभागों को मंत्रालय द्वारा जारी गाइडलाइन का पालन करने के साथ ही लोगों को इसमें सहयोग करना चाहिए।

यह सामान अब प्रतिबंधित

-प्लास्टिक की छड़ युक्त ईयर बड्स, गुब्बारे, आइसक्रीम, प्लास्टिक के झंडे, कैंडी की छड़ें, सजावट को थर्मोकोल।

-प्लास्टिक की प्लेट, कप, गिलास, कांटे, चम्मच, चाकू, स्ट्रा, ट्रे, मिठाई के डिब्बे, निमंत्रण कार्ड व सिगरेट की रैपिंग या पैकिंग फिल्म।

-100 माइक्रोन से कम के प्लास्टिक या पीवीसी बैनर।

पंफलेट बांटकर किया जागरूक

सीपीसीबी द्वारा सिंगल यूज प्लास्टिक पर रोक लगने के बाद जनजागरूकता के लिए ईदगाह, नगर निगम कार्यालय, रामबाग चौराहे पंफलेट वितरित किए गए। धौलपुर हाउस व नुनिहाई में लोगों को जागरूक किया गया। कार्यालय में हुई गोष्ठी में सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग न करने और लोगों को जागरूक करने की शपथ ली गई। 

Edited By: Prateek Gupta