आगरा, जागरण संवाददाता। मौसम की मार से पीडि़त किसानों के दर्द पर मरहम लगाए जाने की तैयारी है। बारिश, ओलावृष्टि और तेज हवाओं से फसलों को हुए नुकसान का आकलन कराया जाएगा। जिलेवार इसकी रिपोर्ट तैयार होगी। किस किसान को कितना नुकसान हुआ, इसका ब्योरा जुटाया जाएगा। यह रिपोर्ट शासन को भेजी जाएगी।

मंडलायुक्त अनिल ने शनिवार को वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से संबंधित मंडल के अधिकारियों को निर्देश दिए। बीते गुरुवार रात और शुक्रवार को बारिश और ओलावृष्टि से फसलों को काफी नुकसान पहुंचा। गेहूं और आलू फसल खेतों में ही खराब हो गई। खेतों में ओलों की चादर सी बिछ गई थी। वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से मंडलायुक्त ने इन नुकसान की रिपोर्ट तैयार कराने को कहा है। इस दौरान उन्होंने होली के दृष्टिगत मंडल के सभी जिलों शांति एवं कानून व्यवस्था की भी समीक्षा की। इस दौरान जिलाधिकारी प्रभु एन. सिंह, अपर आयुक्त साहब सिंह, अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व रमेश चंद्र, उप निदेशक अर्थ एवं संख्या नवीन चतुर्वेदी आदि मौजूद थे।

जनगणना को बस्तियों की सूची का पुन: सत्यापन

मंडलायुक्त अनिल कुमार ने शनिवार को मंडल के चारों जिलों में जनगणना-2021 को लेकर चल रहीं तैयारियों की समीक्षा की। उन्होंने समय-सारणी के अनुसार तैयारियों को संपन्न करने के निर्देश दिए। साथ ही हिदायत दी कि जनगणना से कोई क्षेत्र छूटने न पाए। मंडलायुक्त ने वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से समीक्षा की। जनगणना कार्मिकों की नियुक्ति, विशेष चार्ज अधिकारी की नियुक्ति, प्रगणकों का डाटा फीड कराए जाने की स्थिति एवं लॉगिन आईडी बनाए जाने की स्थिति आदि की जानकारी ली। उन्होंने मंडल के सभी डीएम से कहा कि जनगणना के कार्य को निर्धारित समय-सारणी के अनुसार पूरा कराया जाए। किसी भी क्षेत्र की डबलिंग न हो। मंडलायुक्त ने ग्राम सूची एवं वार्ड सूची और मलिन बस्तियों की सूची की एक बार पुन: जांच कराए जाने के निर्देश दिए। बता दें कि इससे पहले इसी साल मई-जून में मकान गणना होगी। 

Posted By: Prateek Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस