आगरा, जागरण संवाददाता। आगरा के ताजगंज में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुपालन में आगरा विकास प्राधिकरण (एडीए) द्वारा दी गई डेटलाइन से पहले ही हो रही कार्रवाई से क्षेत्रीय जनता का धैर्य जवाब देने लगा है। पुरानी मंडी बैरियर पर रसद सामग्री रोके जाने और ताजगंज थाने में बड़ी संख्या में बैरियर मंगाए जाने से क्षेत्रीय कारोबारी व निवासियों में कार्रवाई के भय से चिंता की लहर दौड़ गई है। मंगलवार शाम चौक कागजियान में बैठक कर उन्होंने प्रशासनिक रुख पर विरोध जताया।

पांच सौ मीटर की परिधि पर सुप्रीम कोर्ट ने दिया था आदेश

चौक कागिजयान स्थित सरकारी अस्पताल के सामने मैदान में ताजमहल की चहारदीवारी की 500 मीटर की परिधि में रहने वाले नागरिकों और कारोबारियों ने बैठक की। लोगों ने रोष जताया कि एडीए ने 17 अक्टूबर तक की डेटलाइन दी है, लेकिन उससे पहले ही यहां रसद तक आने से रोकी जा रही है। इससे रोजमर्रा की वस्तुओं के लिए भी जनता परेशान हो रही है। एडीए की डेटलाइन के खिलाफ शांतिपूर्ण प्रदर्शन के बावजूद ताजगंज थाने में दर्जनों बैरियर मंगाकर रख लिए गए हैं, इससे जनता में भय फैल गया है।

ये भी पढ़ें... Agra Fort देखने जा रहे हैं तो ये हैं अंदर की खूबसूरत जगहें, देखकर हो जाएगा दिल खुश

राहत के लिए दायर करेंगे पुनर्विचार याचिका

ताजगंज डवलपमेंट फाउंडेशन के अध्यक्ष नितिन सिंह ने बताया कि प्रशासनिक अधिकारियों को यहां आकर लोगों में विश्वास जगाना चाहिए। प्रशासनिक रुख से लोगों में आक्रोश फैल रहा है। लाेगों से शांति से रहने की अपील की गई है। राहत के लिए सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दायर की जाएगी। संजय अरोड़ा, राजेश सोनकर, जितेंद्र बोहरा, राजेश अग्रवाल, देवेंद्र सिंह, अमित शिवहरे, ब्रजेश गुप्ता, ताहिरउद्दीन ताहिर आदि मौजूद रहे। संचालन इब्राहिम जैदी ने किया।

Tajmahal के 500 मीटर दायरे में कारोबारियों को नहीं मिलेगी राहत, मंडलायुक्त ने किया इन्कार

अखिलेश यादव से करेंगे बात

बैठक में पहुंचे सपा के राष्ट्रीय महासचिव रामजीलाल सुमन ने ताजगंज के लोगों को आश्वासन दिया कि वह उनके साथ हैं। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव से वह बात करेंगे। उनसे मांग करेंगे कि ताजगंज के लोगाें की सुप्रीम कोर्ट में पैरवी के लिए वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल से वार्ता की जाए। 

Edited By: Abhishek Saxena

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट