आगरा, जागरण संवाददाता। जगदीशपुरा थाने से चोरी के मामले में पकड़े गए सफाईकर्मी की मंगलवार रात पुलिस हिरासत में मौत हो गई। इसके बाद बवाल की आशंका पर थाने पर बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात कर दिया गया है। आसपास के जिलों से भी पूर्व में यहां रह चुके तेज तर्रार इंस्पेक्टर बुलाए गए हैं।

बवाल की आशंका के चलते जगदीशपुरा थाना परिसर के आसपास तैनात फोर्स। 

जगदीशपुरा थाने के मालखाने में शनिवार रात को दरवाजे तोड़कर 25 लाख रुपये चोरी कर लिए गए थे। रविवार सुबह घटना की जानकारी होने के बाद इंस्पेक्टर अनूप कुमार तिवारी समेत छह पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया था। इस मामले में अज्ञात चोरों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर पुलिस ने जांच शुरू की। सबसे पहले पुलिस ने थाने में आने वाले प्राइवेट कर्मचारियों की सूची तैयार की। इनके बारे में पुलिस ने जानकारी की तो सामने आया कि प्राइवेट सफाईकर्मी अरुण दो दिन से थाने में नहीं आ रहा है।

पुलिस टीम उसके घर पहुंची तो वह घर से गायब मिला। उसके घर से पुलिस को कुछ कैश भी मिल गया। मंगलवार को पुलिस ने सफाईकर्मी को ताजगंज क्षेत्र से पकड़ लिया। उससे पूछताछ के बाद पुलिस ने दस लाख रुपये से अधिक बरामद कर लिए। इसके बाद और रुपये बरामद करने को पूछताछ की जा रही थी। देर रात पुलिस हिरासत में सफाईकर्मी की हालत बिगड़ गई। इसके बाद पुलिस ने उसे हास्पिटल में भर्ती कराया। यहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

एसएसपी मुनिराज जी ने अरुण की मौत की पुष्टि की है। उनका कहना है कि सफाईकर्मी अरुण ने घटना कुबूल ली थी। उसके घर से चोरी की रकम बरामद करने के प्रयास किए जा रहे थे, इसी दौरान रात में उसकी तबियत बिगड़ गई और उपचार के दौरान मौत हो गई। इधर सफाईकर्मी अरुण की मौत की खबर वाल्‍मीकि समाज में फैल गई है। शहरभर में वाल्‍मीकि समाज के लोग लामबंद हो रहे हैं। किसी बड़े विरोध प्रदर्शन की आशंका पर पुलिस को अलर्ट कर दिया गया है। बताया जा रहा है कि दूसरे जिलों में भी फोर्स को तैयार तैयार रहने को कहा गया है।  

Edited By: Prateek Gupta