आगरा, जागरण संवाददाता। आगरा के एसएन मेडिकल कालेज में 84 करोड़ रुपये की लागत से बनी सात मंजिला नई सर्जरी इमारत को भ्रष्टाचार की दीमक चाटने लगी है। इमारत में लगी ग्रिट आठ वर्ष में ही टूट कर गिरने लगी हैं। सोमवार को बड़ा हादसा होने से बच गया। सातवीं मंजिल से टूट कर गिरी ग्रिट (पत्थर) ने एंबुलेंस की छत तोड़ दी। उसके पास खड़े तीन तीमारदार बाल-बाल बचे,ग्रिट के टुकड़े टूट कर उन्हें लगे, जिससे अफरातफरी मच गई। वहां खड़े लोग भाग खड़े हुए।

एंबुलेंस के पास खड़े थे लोग

घटना सोमवार की दोपहर करीब ढाई बजे की है। एसएन की नई सात मंजिला सर्जरी इमारत के पोस्टमार्टम गृह वाले हिस्से की आेर एंबुलेंस खड़ी थी। उसके पास सिकंदरा आवास विकास कालोनी सेक्टर 16 निवासी मोहिनी, नेहा और विवेक खड़े हुए थे। मोहिनी ने बताया कि उनके परिचित राहुल आनंद के पैर का आपेरशन हुआ है। उन्हें सर्जरी इमारत में डाक्टराें को दिखाने के लिए आना था। वह उनके आने की प्रतीक्षा कर रहे थे।

ये भी पढ़ें... Dussehra 2022: उत्‍तराखंड में वर्षों से राम की जीत का जश्न मना रहे रहीम के बंदे, सामाजिक सद्भाव की अनूठी मिसाल

एंबुलेंस की छत पर गिरा पत्थर

इसी दौरान सातवीं मंजिल पर लगी ग्रिट टूट कर एंबुलेंस की छत पर गिर गया। गोली की रफ्तार से आया ग्रिट पत्थर एबुलेंस की छत को तोड़ता हुआ उसमें लगे स्ट्रेचर पर जा गिरा। छत से टकराने के चलते ग्रिट के छोटे-छोटे टुकड़े टूट कर मोहिनी, नेहा विवेक समेत कई लोगों को लगे, लेकिन गनीमत ये रही कि इनसे कोई अधिक चुटैल नहीं हुआ।

घटना से मच गई अफरा-तफरी

घटना से वहां खड़ी अन्य एंबुलेंस के चालकों और दोपहिया वाहन मालिकों में अफरातफरी मच गई। उन्होंने आननफानन में अपनी गाड़ियां वहां से हटाईं। लोगों का कहना था कि ग्रिट टूटने की यह पहली घटना नहीं है, एक दर्जन से अधिक बार ग्रिट टूट कर गिर चुकी हैं। मगर, कोई बड़ा हादसा नहीं हुआ। सात मंजिला नई सर्जरी इमारत 84 करोड़ रुपये की लागत से बनकर तैयार हुई थी।जिसे वर्ष 2014 में मेडिकल कालेज को हस्तांतरित किया गया था। आठ वर्ष में ही इमारत की ग्रिट टूट कर गिरने लगी हैं।

ये भी पढ़ें... Mulayam Singh Yadav: मुलायम के गढ़ में शुरू हुई प्रार्थनाएं, मैनपुरी में सपाई कर रहे नेताजी के लिए हवन

देवी मां ने बचा लिया

मोहिनी, नेहा और विवेक का कहना था कि वह उन्हें देवी मां ने बचा लिया। तीनों नवरात्र के व्रत रख रहे हैं। यही कारण था कि टाइल उनसे करीब दो फीट दूर एंबुलेंस की छत के बीच में गिरा, यदि हवा के तेज के झोंके से उसकी दिशा जरा भी बदल जाती तो वह उन तीनों में से किसी पर गिरता। जिससे उनका बच पाना मुश्किल था।

पांच वर्ष पहले पत्थर गिरने से हो चुकी है तीमारदार की मौत

अगस्त 2014 में एसएन में प्रसूति रोग विभाग की निर्माणाधीन चार मंजिला इमारत का पत्थर टूट कर गिरने से मलपुरा के नगला बसुआ निवासी 40 वर्षीय प्रदीप की मौत हो गई थी। महिला तीमारदार शंकुतला निवासी एका फिरोजाबाद घायल हो गई थीं। मामले में प्रदीप के भाई कोमल ने एमएम गेट थाने में ठेकेदार आदि के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। हादसे के बाद पत्थरों को गिरने से रोकने का उपाए किए गए थे।

जहां की ग्रिट गिरी है, सतर्कता के चलते वहां पर बेरीकेडिंग कर दी गई है। प्रशांत गुप्ता प्राचार्य एसएन मेडिकल कालेज

Edited By: Abhishek Saxena

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट