आगरा, जेएनएन। यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस की दूसरे दिन भी हड़ताल रही। मंडलभर में बैंक कर्मचारी हड़ताल पर रहे। आगरा में संजय प्‍लेस स्थित केनरा बैंक के सामने बैंक कर्मचारी हड़ताल पर बैठे। उधर मथुरा में सभी कर्मचारियों ने होली गेट के सिंसडीकेट बैंक की मुख्य शाखा पर विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान शीघ्र द्विपक्षीय वेतन समझौता लागू करने, विशेष पे को मूल वेतन में जोडऩे, नई पेंशन स्कीम को बंद कर पुरानी पेंशन स्कीम लागू करने, पांच दिवसीय बैंक शुरू करने पर जोर दिया गया। इस दौरान सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया गया।

शनिवार सुबह करीब साढ़े दस बजे अधिकारी और कर्मचारी एकत्रित हुए। एआईबीई के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एमएन राय ने कहा की सरकार को जब आवश्यकता होती है वह पब्लिक सेक्टर का दोहन करती है और उन को कमजोर करके प्राइवेट सेक्टर में लाने का प्रयास कर रही है। अभी हाल में ही जब चीन में कोरोना से भारतीय पीड़ित हो गए तो पब्लिक सेक्टर के विमान एयर इंडिया के लाने के लिए भेजे गए उस समय प्राइवेट सेक्टर से मदद के हाथ आगे क्यों नहीं आए। सरकार जो विभिन्न योजनाओं का श्रेय जैसे मुद्रा लोन, स्टैंड अप इंडिया, इंफ्रास्ट्रक्चर और 5 ट्रिलियन डॉलर की आर्थिक प्रगति को पाने का प्रयास हो रहा है क्या वह बगैर सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के बिना सम्भव है। उन्‍होंने कहा कि भारत में 10 लाख से अधिक बैंक कर्मचारी हड़ताल पर हैं और अपनी जायज मांगों को रख रहे हैं उस पर सरकार किसी प्रकार का भी ध्यान नहीं दे रही है और मजबूरन बैंक कर्मचारियों को हड़ताल पर रह कर अपना वेतन कटाने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। हम आईबीए और सरकार से मांग करते हैं कि वह शीघ्र हमारी जायज मांगों पर वार्ता कर 11 वांं दीपक्षीय समझौता शीघ्र से शीघ्र करें। प्रदर्शन में अशोक सारस्वत, एचएन चतुर्वेदी, श्रवण कुमार, सौरभ शर्मा, वकील अली, प्रेमचंद, मनीष शर्मा, अनिल सक्सेना, पुनीत कुमार, प्रियंका सिंह, इरा सक्सेना, मोनिका, पारुल, अमिता सिंह, रीता हसीजा, तृप्ति दुबे और लाइका गोयल शामिल रहे।

कामकाज रहा ठप्‍प

बैंकों में काम न होने के चलते दो दिन में करीब 300 करोड़ का लेनदेन प्रभावित हुआ। नगद लेन-देन, आरटीजीएस, नेफ्ट, चेक क्लीयरिंग नहीं हो सकी। हड़ताल भले ही शनिवार शाम तक खत्‍म हो गई लेकिन रविवार का अवकाश होने के चलते लोगों की परेशानी और बढ़ेगी।

लोगों को हुई दिक्कत

सभी अधिकारी-कर्मचारियों के हड़ताल पर रहने के कारण जिले की एसबीआइ, बैंक ऑफ इंडिया, केनरा बैंक, यूनियन बैंक, पीएनबी, सिंडिकेट, इलाहाबाद बैंक, सेंट्रल बैंक, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स आदि बैंक की 400 से ज्यादा शाखाओं में ताले लटके रहे। करीब साढ़े तीन हजार कर्मचारी हड़ताल पर रहे। इससे लोगों को दिक्कत का सामना करना पड़ा।

 

Posted By: Tanu Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस