आगरा, जागरण संवाददाता। कोरोना वैक्सीन की 27,32,849 डोज लग चुकी हैं। सोमवार को शहर और देहात के 401 केंद्रों पर 1.11 लाख वैक्सीन लगाने का लक्ष्य रखा गया है। अपने नजदीक के केंद्र पर जाकर बिना पूर्व पंजीकरण के वैक्सीन लगवा सकते हैं।

18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को वैक्सीन लगाई जा रही है। 16 जनवरी को पहली वैक्सीन लगाई गई थी। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा. एसके वर्मन ने बताया कि अभी तक वैक्सीन की 27,32,849 डोज लग चुकीं हैं। 18 वर्ष से अधिक उम्र के 32 लाख से अधिक लोगों के वैक्सीन लगाई जानी है। 401 केंद्र पर 1.11 लाख लोगों को वैक्सीन लगाने का लक्ष्य रखा गया है। सुबह 10 बजे से तीसरे पहर चार बजे तक वैक्सीन लगाई जाएगी। वैक्सीन लगवाने के लिए पूर्व पंजीकरण कराने की जरूरत नहीं है। अपना आधार कार्ड और मोबाइल लेकर केंद्र पर पहुंच जाएं। वैक्सीन लगा दी जाएगी। 6,41,180 ने ही लगवाई वैक्सीन की दोनों डोज

कोवक्सीन की पहली डोज लगने के 28 दिन बाद दूसरी डोज लग रही है। जबकि कोविशील्ड वैक्सीन लगवाने के 84 दिन बाद दूसरी डोज लगाई जा रही है। 20 लाख से अधिक लोग वैक्सीन की पहली डोज लगवा चुके हैं। दोनों डोज 6,41,180 लोगों ने ही लगवाई हैं। वैक्सीन की दोनों डोज लगने के बाद शरीर में कोरोना वायरस से लड़ने के लिए पर्याप्त मात्रा में एंटीबाडीज बन रही हैं। डेंगू के आठ नए केस, उल्टी नहीं हो रहीं बंद

जागरण संवाददाता, आगरा : डेंगू के रविवार को आठ नए केस मिले हैं। डेंगू से पीड़ित मरीजों में तेज बुखार के साथ उल्टी हो रही हैं। शरीर में दर्द हो रहा है। ऐसे में गंभीर हालत में मरीज अस्पताल पहुंच रहे हैं।

एसएन मेडिकल कालेज के प्राचार्य डा. प्रशांत गुप्ता ने बताया कि डेंगू वार्ड में 11 मरीज भर्ती हैं। सात मरीजों में डेंगू की पुष्टि हुई है। ये सभी आगरा के हैं। नौ मरीजों को ठीक होने पर डिस्चार्ज कर दिया गया। पांच नए मरीज भर्ती हुए हैं। वहीं, जिला अस्पताल के डेंगू वार्ड में 11 मरीजों का इलाज चल रहा है। निजी अस्पताल में भर्ती आगरा के एक मरीज में डेंगू की पुष्टि हुई है। अभी तक 332 मरीजों में डेंगू की पुष्टि हो चुकी है।

उधर, डेंगू के मरीजों को तेज बुखार आ रहा है। एसएन के बाल रोग विशेषज्ञ डा. नीरज यादव ने बताया कि बुखार के साथ बच्चों को उल्टी हो रही हैं। इससे पानी की कमी हो रही है। बच्चे बेहोशी की हालत में अस्पताल में पहुंच रहे हैं। यह घातक हो रहा है। उल्टी होने पर तुरंत डाक्टर से परामर्श लेकर दवा दिलवाएं। इसके साथ ही तरल पदार्थ का सेवन अधिक से अधिक कराएं।

Edited By: Jagran