आगरा, जागरण संवाददाता। गर्भपात किट के साथ ही दवाओं की अवैध बिक्री के मामले में औषधि विभाग की टीम ने शनिवार को माधव ड्रग हाउस, फव्वारा पर जांच शुरू की। टीम दवाओं की खरीद बिक्री के रिकार्ड खंगाल रही है।

पिछले साल दिसंबर में औषधि विभाग की टीम ने नवीन कुमार अरोरा उर्फ बंटी के माधव ड्रग हाउस और कपिल खत्री, अंकुर गुप्ता की फर्म एके एंटरप्राइजेज के गर्भपात किट के अवैध कारोबार की आशंका पर दस्तावेज जब्त किए थे। टीम ने जांच के बाद एके एंटरप्राइजेज का लाइसेंस निरस्त कर दिया, लेकिन माधव ड्रग हाउस की जांच चल रही है। इसी मामले में मुख्यालय के निर्देश पर औषधि विभाग की टीम जांच के लिए पहुंची। सहायक औषधि आयुक्त अखिलेश कुमार जैन ने बताया कि फीरोजाबाद और मथुरा के ड्रग इंस्पेक्टर को साथ लेकर माधव ड्रग हाउस पर गर्भपात किट सहित अन्य दवाओं की खरीद बिक्री के रिकार्ड की जांच की जा रही है, अभी जांच चल रही है। राजस्थान और हरियाणा में गर्भपात किट का अवैध इस्तेमाल होने पर एक साल पहले रिकार्ड जब्त किए गए थे, इसके साथ ही कई और दवाओं की अवैध बिक्री के संबंध में जांच की जा रही है।

दवा बाजार में मची खलबली, दुकानें बंद

दोपहर में बाहर की टीम के छापे मारने की खबर आते ही फव्वारा दवा बाजार में दुकानों के शटर बंद हो गए। दवा कारोबारी दुकान बंद कर भाग खड़े हुए। अवैध दवा का कारोबार करने वाले कारोबारी दुकान बंद कर बाहर निकल आए। 

Edited By: Tanu Gupta