आगरा, जागरण संवाददाता। कोरोना वायरस संक्रमण के चलते इस बार लगाए गए आंशिक कर्फ्यू में उतनी पाबंदियां नहीं हैं, जितनी पिछले वर्ष के पूर्ण लाॅॅकडाउन में थीं, लेकिन उसके बावजूद वायु गुणवत्ता में जबरदस्‍त सुधार है। यह सुधार कल्‍पना से परे हैं कि आगरा जैसे शहर में आबोहवा इतनी साफ भी हो सकती है। ताजनगरी में मंगलवार को लगातार पांचवें दिन वायु गुणवत्ता संतोषजनक स्थिति में दर्ज की गई। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) की रिपोर्ट के अनुसार एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआइ) 51 रहा, जो सोमवार के एक्यूआइ 77 से कम था। पिछले वर्ष 11 मई को एक्यूआइ 62 रहा था और वायु गुणवत्ता संतोषजनक स्थिति में थी।

सीपीसीबी द्वारा प्रतिदिन संजय प्लेस स्थित आटोमेटिक मानीटरिंग स्टेशन पर एकत्र आंकड़ों के आधार पर आगरा में वायु गुणवत्ता की स्थिति पर रिपोर्ट जारी की जाती है। इसके अनुसार मंगलवार को हवा में घुली अति सूक्ष्म कणों की अधिकतम मात्रा मानक 60 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर से अधिक रही। सीपीसीबी द्वारा निर्धारित गाइडलाइन के अनुसार वायु गुणवत्ता एक्यूआइ 0-50 तक अच्छी, 51-100 तक संतोषजनक, 101-200 तक मध्यम, 201-300 तक खराब, 301-400 तक बहुत खराब और 401-500 तक खतरनाक स्थिति में रहती है। पिछले वर्ष लाॅॅकडाउन में आगरा में वायु गुणवत्ता निरंतर अच्छी और संतोषजनक स्थिति में बनी रही थी, जिसकी वजह औद्योगिक व मानवीय गतिविधियों पर पूरी तरह रोक लगा होना था।

प्रदूषक तत्वों की स्थिति

प्रदूषक तत्व, न्यूनतम, अधिकतम, औसत

मंगलवार

नाइट्रोजन डाइ-आक्साइड, 5, 13, 9

ओजोन, 3, 13, 6

अति सूक्ष्म कण, 19, 94, 51

सोमवार

नाइट्रोजन डाइ-आक्साइड, 5, 20, 11

ओजोन, 1, 17, 5

अति सूक्ष्म कण, 41, 97, 75 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप