आगरा, जागरण संवाददाता। उप्र माध्यमिक शिक्षा परिषद (यूपी बोर्ड) की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा फरवरी-मार्च में प्रस्तावित हैं। उन्हें देखते हुए विद्यार्थी परीक्षा की तैयारियों में लगे हैं। लेकिन कोरोना संक्रमण ने उनकी चिंताएं बढ़ा दी हैं। हालांकि बोर्ड ने उनकी सहूलियत के लिए काफी राहत दी है, लेकिन अनिश्चितता की स्थिति से वह थोड़े तनाव में हैं। उन्हें इस स्थिति से उबारने के लिए मंडलीय शिक्षा विभाग उनके लिए मिशन मोटिवेशन शुरू करने जा रहा है।

इसमें विद्यार्थियों को कम समय में बेहतर तैयारी करने के लिए प्रेरित किया जाएगा। उन्होंने सिलेबस को छोटे-छोटे हिस्सों में बांटकर पढ़ने, नियमित रूप से अपना मूल्यांकन करते हुए समय-सारिणी बनाकर तैयारी करने के लिए प्रेरित किया जाएगा। साथ ही परीक्षा का डर मन से निकालकर सकारात्मक सोच से तैयारी करने की सीख दी जाएगी। इसके लिए मंडलीय संयुक्त शिक्षा निदेशक डा. मुकेश अग्रवाल ने पूरी तैयारी कर ली है।

पिछले साल भी चलाया था अभियान

उन्होंने बताया कि विद्यार्थियों को मानसिक रूप से परीक्षाओं के लिए तैयार करने के लिए उन्होंने पिछले साल भी इस अभियान को चलाया था, जिसका सुखद परिणाम सामने आया। लिहाजा इस समय इसकी सबसे ज्यादा जरूरत को देखते हुए इसे दोबारा शुरू किया जाएगा। हालांकि स्कूलों में विद्यार्थी सीमित संख्या में आ रहे हैं, इसलिए इसे वर्चुअल तरीके से करने पर जोर दिया जाएगा, ताकि अधिक से अधिक विद्यार्थी इसका लाभ उठा सकें।

इन बातों पर रहेगा जोर

मिशन मोटिवेशन के पहले चरण में कमजोर विद्यार्थियों को मदद की जाएगी, जबकि जो मेधावी हैं, उन्हें बेहतर प्रदर्शन करने के लिए प्रेरित किया जाएगा। दूसरे चरण में उन्हें टाइम मैनेजमेंट सिखाया जाएगा, ताकि वह सीमित समय से सभी विषयों पर पूरा ध्यान दे सकें और तीसरे चरण में उन्हें मानसिक रूप से मजबूत होने के लिए आत्मबल सिखाया जाएगा। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021