आगरा, जागरण संवाददाता। लाकडाउन में लोगों ने जितना खुद को स्वस्थ और फिट करने के लिए पौष्टिक भोजन किया, दीपावली के समय तला-भुना और मीठा खाने से सब गड़बड़ हो गया। दीपावली के बाद अब डाइटीशियनों के पास फोन कर डिटाक्स करने वालों की संख्या में काफी वृद्धि हो गई है।

चीट डे लंबा खिंच गया

डाइटीशियन रेणुका डंग ने बताया कि आमतौर पर डाइटिंग करने वाले लोग हफ्ते में एक दिन चीट डे यानी अपने रोज के खाने में थोड़ी सी ढील देते हैं। पर त्योहारों में यह चीट डे लंबा खिंच गया। एक हफ्ते से दस दिन तक लोगों ने खूब तला-भुना खाया। मिठाई का सेवन किया। इससे वजन बढ़ने की शिकायत के साथ ही पाचन संबंधी समस्याएं भी सामने आ रही हैं। अब लोग हमारे पास डिटाक्स होने के तरीके पूछ रहे हैं।

क्या होता है डिटाक्स?

तला-भुना और अस्वास्थ्यकर भोजन का सेवन करने से शरीर में पैदा हुए विषाक्त कणों को इस प्रक्रिया में शरीर से बाहर निकाला जाता है। विषाक्त कणों को शरीर से बाहर न निकाला जाए तो यह आंतों में मोटी परत के रूप में जमा हो जाते हैं, इससे पाचन से जुड़ी समस्याएं होती हैं।

डाइटीशियन शिल्पा अग्रवाल ने बताया कि घर पर डिटाक्स कैसे करें-

- शरीर को डिटाक्स करने के लिए छुट्टी वाला दिन रखें। डिटाक्स करने पर शरीर में कमजोरी महसूस होती है इसलिए घर पर रहना ही उचित है।

- सुबह से रात तक सेमी सालिड यानी अर्द्ध ठोस भोजन लेना है। ठोस आहार नहीं खाना है।

- सुबह उठते ही गुनगुने पानी में नींबू पिएं या रात में पानी में पुदीना भिगो कर रख दें, यह पानी पूरा दिन पिएं।

- सब्जियों और फलों का सलाद खाएं।

- कच्ची सब्जी या फल न अच्छे लगते हों तो जूस, सूप या स्मूदी बनाकर पिएं।

- डेयरी उत्पादों का सेवन न करें।

- अदरक और हल्दी का पानी लें। पूरा दिन भरपूर पानी पिएं।

- खिचड़ी या दलिया आदि ले सकते हैं, लेकिन दालें नहीं खानी हैं।

- एक-एक घंटे के अंतराल पर फल खाएं।

- डिटाक्स वाटर पिएं। इसे बनाने के लिए रात में पानी में पुदीना, खीरा और नींबू काट कर रख दें। इस पानी को दूसरे दिन पूरा दिन थोड़ा-थोड़ा पिएं। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021