आगरा, जागरण संवादराता। ताजनगरी में केसरिया लहरा रहा है। विधायक, सांसद, मेयर से लेकर अब राज्यसभा सदस्य तक आगरा को मिलने जा रहे हैं। दो सांसदों में एक काे राष्ट्रीय स्तर की जिम्मेदारी व नौ विधायकों में से दो राज्यमंत्री। पूरी ताजनगरी केसरिया के रंग में है। भाजपा में ब्रज की ताकत नजर आ रही है।

प्रदेश सरकार में पूर्व मंत्री रहे हरद्वार दुबे राज्यसभा सदस्य के लिए नामांकन करेंगे। उन्होंने जिला प्रचारक, विद्यार्थी परिषद के संगठन मंत्री से अपना सफर शुरू किया। वह मिसा के तहत जेल भी गए। आगरा महानगर इकाई के मंत्री से लेकर महानगर अध्यक्ष तक का सफर तक किया। 1989 के विधानसभा चुनाव में वह पहली बार छावनी विधानसभा सीट से विधायक चुने गए। 1957 के विधासभा चुनाव के बाद यह पहली बार था, जब यह सीट भाजपा के खाते में आई। स्वयंसेवक के रूप में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ जुड़े हरद्वार दुबे पिछले कुछ सालों में उस वक्त चर्चा में आए, जब उनका नाम राज्यपाल बनाए जाने पर उछला। मगर, समीकरण फिट नहीं बैठ पाए। उन्होंने भी ज्यादा शोर शराबा नहीं किया। शांत बैठे रहे और वक्त का इंतजार किया। अब वह राज्यसभा के लिए नामांकन करने जा रहे हैं। ताजनगरी के लिए यह हर्ष विषय है। क्योंकि पहली बार ताजनगरी के किसी राजनीतिक दल के नेता इतने वरिष्ठ पदों पर रहे हैं। वर्तमान में भाजपा के दो सांसद, नौ विधायक, मेयर हैं। प्रो. एसपी सिंह बघेल आगरा सीट से सांसद हैं। फतेहपुर सीकरी से सांसद राजकुमार चाहर को हाल ही में भाजपा ने अपने किसान मोर्चा का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया है। नौ विधायकों में से चौधरी उदयभान सिंह व डा. जीएस धर्मेश प्रदेश सरकार में राज्यमंत्री हैं। पूर्व प्रदेश सह कोषाध्क्ष रहे नवीन जैन मेयर हैं। पूर्व मेयर बेबी रानी मौर्य को भाजपा ने वर्ष 2018 में उत्तराखंड का राज्यपाल बनाया। भाजपा ने ताजनगरी को उम्मीद से ज्यादा दिया है। 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस