आगरा, जागरण संवाददाता। समय सुबह छह बजे। हल्की-हल्की ठंडी हवा के बीच घास पर नंगे पांव चहल कदमी करती युवतियां। योग करते बुजुर्ग और महिलाएं। यह नजारा था ट्रांस यमुना फेस-2 का पार्क। कोरोना से लड़ने को फिट रहने और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए लोगों ने योग और व्यायाम को हथियार बनाया है। पार्क में आने वाले लोग मास्क और दो गज की दूरी का ख्याल रख रहे हैं। अनलाक के बाद पार्क में लोगों की संख्या लगातार बढ़ रही है।

कोरोना काल में पार्कों का माहौल भी बदल दिया है। पहले पार्कों में लोग ग्रुप में घूमा करते थे। पास-पास बैठकर चर्चा करते थे। मगर, अब मुंह पर मास्क और शारीरिक दूरी का पालन करते हुए लोग दूर-दूर चल रहे थे। बुजुर्ग और महिलाओं के साथ युवा भी अच्छी संख्या में पार्क में थे। कोई दौड़ लगा रहा था तो कोई अनुलोम विलोम कर रहा था। 55 वर्षीय रामपाल सिंह ने बताया कि वो तीन साल से लगातार पार्क में आ रहे हैं। एक घंटे तक योग करते हैं। पहले योग के बाद आधे घंटे तक सभी लोग साथ बैठते थे, लेकिन अब वो योग करने के बाद सीधे घर जाते हैं। बैंक में काम करने वाले अनिल जैन छह माह से सुबह टहलने आते हैं। उन्होंने बताया कि कोरोना से बचने को फिट रहना जरूरी है। पहले वो जिम जाया करते थे, लेकिन लाकडाउन में उन्होंने पार्क में आना शुरू किया, तब से वो लगातार आ रहे हैं।

रामबाग और मंडी समिति बंद

यमुना पार में सुबह टहलने और योग करने वाले सबसे ज्यादा लोग रामबाग पार्क और मंडी समिति में आते थे। मगर, लाक डाउन के बाद रामबाग और मंडी समिति में लोगों का प्रवेश बंद कर दिया गया है। रामबाग में प्रवेश के लिए 20 रुपये की टिकट लगा दी है, जबकि पहले सुबह सात बजे तक प्रवेश निश्शुल्क था। पार्क में प्रवेश न मिलने के चलते सैकड़ों की तादाद में लोग अब छोटे-छोटे पार्कों में जा रहे है, जिससे पार्कों में भीड़ बढ़ रही है। सुबह दौड़ लगाने वाले लोगों को मजबूरन सड़क पर दौड़ना पड़ रहा है, इससे उन्हें परेशानी का सामना भी करना पड़ रहा है। 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस