आगरा, जेएनएन। बुधवार को चुनावी सभा को संबोधित करने आए भाजपा प्रदेश महामंत्री संगठन सुनील बंसल ने कहा कि पार्टी पंचायत से लेकर लोकसभा तक का हर छोटे से छोटा चुनाव लड़ेंगी। पार्टी का मकसद हर कार्यकर्ता को नेता बनाना है। हमें संगठन को इतना मजूबत करना है कि हम किसी को भी चुनाव जिता सकें। सपा, बसपा के अलावा सभी दल बीजेपी से जुड़ना चाहते हैं। हमें संगठन को इतना मजबूत करना है कि हम पंचायत से लेकर लोकसभा तक का हर चुनाव जीतकर आएं। हर कार्यकर्ता को नेता बनाना है। यह बिना छोटा चुनाव लड़े बिना संभव नहीं है। कार्यकर्ता कैसे नेता बनेंगे इस पर कार्य करना है। हमने भूमि विकास बैंक व कॉपरेटिव पर शिवपाल यादव के तीस साल पुराने कब्जे को उखाड़ फेंक दिया। हमारे 278 निर्विरोध कार्यकर्ता जीतकर आए। फीराेजाबाद में जो बची कुची सपा व बसपा है उसे भी खत्म कर देना है। हमें बूथ पर चुनाव जीतने की योजना बनानी है। सामान्य चुनाव में मतदान प्रतिशत बढ़ता है। उप चुनाव में मतदान प्रतिशत गिर जाता है। हमें घर-घर से मतदाता को बाहर निकालना है। जिससे मतदान प्रतियात बढ़ सके।

उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने कहा कि कार्यकर्ता पार्टी की नींव हैं। भाजपा क्षेत्र, जाति व धर्म के आधार पर नहीं चलती। पार्टी के लिए कार्यकर्ता ही सर्वोच्च है। उन्होंने कहा कि सरकार भले ही हमारी हो, लेकिन जब तक क्षेत्रीय प्रतिनिधि नहीं होगा तब तक विकास संभव नहीं है। हमें चुनौती कौन दे रहा है। बसपा, सपा, माकपा जैसी लूट पार्टियां। हमने घर-घर शौचालय, प्रधानमंत्री आवास, गैस सिलिंडर, सड़कें बनवाई। पहले नकल के सहारे परीक्षा होती थी, योगी सरकार ने नकल विहीन परीक्षाएं कराई। तीन माह तक चलने वाली परीक्षाओं को 12 दिन में संपन्न कराया। साढ़े तीन लाख सरकारी नौकरियां दी। तीन लाख नौकरियां और देने जा रहे हैं। बैकों द्वारा ऋण देकर राेजगार के अवसर प्रदान किए हैं। फुटकर व्यापारियों को ऋण देकर रोजगार देने का काम किया है। कार्यकर्ताओं को बजरंगबली का अवतार बताते हुए उन्हें उनकी शक्ति याद दिलाने की बात कही। सुनील बंसल को जामवंत की उपाधि दी। हमारा संकल्प सपा, बसपा, माकपा, बाकपा, कांग्रेस जैसी पार्टियों की गलत नीतियों को उजागर करना। ये जाति व संप्रदाय के आधार पर चलने वाले लोग हैं। सीएए के धरने में संप्रदाय विशेष को भड़काकर भाजपा के विरुद्ध सांप्रदायिक जातीय संघर्ष जैसा माहौल पैदा किया गया। ये सभी अप्रत्यक्ष रूप से मिले हुए हैं। हाथरस जैसी घटनाएं होती हैं। विदेशी शक्तियों से फंड लेकर दंगा कराने की साजिश रची जाती है। ये नहीं चाहते कि उत्तर प्रदेश का विकास हो। सरकार ने वन डिस्टक, वन प्रोडेक्ट के आधार पर छोटे-छोटे उद्योग लगाने का काम किया है। चीन से हटने वाली कंपनियां उत्तर-प्रदेश आ रही है। सैमसंग चीन छोड़कर उत्तर-प्रदेश में कंपनी लगा रही है। कल ही करार हुआ है। जिससे हजारों युवाओं को रोजगार मिलेगा। सरकार की गुंडा दमन नीति से अपराधियों केो संरक्षण देने वाले लाेग आतंकित हैं। ये सरकार को अस्थिर करना चाहते हैं। ये सभी फूट डालो की नीति पर काम कर रहे हें। जिसे पूरा नहीं होने देना है। चुनाव में कोरोना नियमों का पालन करने की बात कही। 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस