आगरा, जागरण संवाददाता। एक खिलाड़ी के अंदर की खेल भावना कभी खत्म नहीं होती। उम्र हो गई तो क्या हुआ लेकिन उसकी प्रतिभा कभी खत्म नहीं होती। ऐसे में जब उसे अवसर मिलता है वो अपनी प्रतिभा से दूसरों को तराशने का काम करने लगता है। ऐसा ही कुछ इस समय पूर्व रणजी खिलाड़ी और कोच केके शर्मा कर रहे हैं। लॉकडाउन में जब सब बंद था तो केके शर्मा ने ऑनलाइन क्रिकेट कोचिंग शुरू की। सोचा था कि खिलाड़ी घर बैठे ही कुछ नया सीखते रहेंगे, लेकिन एक माह में ही देश के अलग-अलग हिस्सों से छोटे से लेकर बडे़ खिलाड़ी उनसे जुड़ गए हैं।

रेलवे में मुख्य टिकट निरीक्षक के पद पर तैनात केके शर्मा पूर्व रणजी खिलाड़ी हैं। बीसीसीआइ में भी मैच रेफरी का पद संभाल चुके हैं। लॉकडाउन में सब बंद था तो उन्होंने घर बैठे क्रिकेट प्रशिक्षुओं को टिप्स देने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया। केके शर्मा ने बताया कि उन्होंने सोचा था कि खिलाड़ी उनके पास तक नहीं आ सकते तो क्या हुआ वो तो खिलाडि़यों के पास जा सकते हैं। बस इसी सोच को लेकर उन्होंने अपने घर में बने नेट पर लाइव कोचिंग क्लास शुरू की। शुरुआत में स्थानीय खिलाड़ी उनसे जुडे़ लेकिन 10 दिन में ही अलग-अलग शहरों से युवा खिलाड़ी उनसे जुड़ने लगे। एक माह में तो पूरे देश के अलग-अलग हिस्सों से क्रिकेट की बारीकी जानने वाले उनके जुड़ गए।

हर दिन नया सेशन

केके शर्मा ने बताया कि उन्होंने बल्ले पकड़ने की जानकारी के साथ अपने ऑनलाइन कोचिंग की शुरुआत की थी। उन्होंने बताया कि इस वीडियो के बाद उनके पास कई खिलाडि़यों के मैसेज आए, कोई अपने स्टांस को लेकर तो कोई अपनी हेड पोजीशन को लेकर परेशान था। उन्होंने खिलाड़ियों की समस्या के ऊपर अलग-अलग सेशन किए। इससे खिलाड़ियों को मदद मिली है।

पूर्व क्रिकेटरों ने सराहा

केके शर्मा ने बताया कि उनके प्रयास को कई पूर्व क्रिकेटरों ने सराहा है। कई एकेडमी के कोच भी उनसे जुडे़ हैं। उनका कहना है कि युवा क्रिकेटर छोटी-छोटी बारीकियों को नहीं जान पाते हैं, ऐसे में ये गलतियां उनकी राह में परेशानी पैदा करती हैं, ऐसे में वो अपने अनुभव से उनको सही दिशा देने की कोशिश कर रहे हैं। 

Posted By: Tanu Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस