जागरण संवाददाता, आगरा: उत्तर प्रदेश प्राविधिक विवि में चल रही काउंसिलिंग के दौरान आई तकनीकी खामी अभ्यर्थियों के लिए मुसीबत का सबब बन गई। छात्रों को ऑनलाइन पेमेंट के दौरान पंद्रह हजार रुपये का चेक जमा करना था। मगर कम्युनिकेशन एरर के कारण भुगतान के बावजूद पेमेंट शो नहीं हो रहा था। ऐसे में छात्रों को कई बार पेमेंट करना पड़ा। अब छात्र रिफंड के लिए बैंक के चक्कर लगा रहे हैं।

इन दिनों यूपीएसईई के छात्रों की च्वाइस लॉकिंग की प्रक्रिया चल रही है। दो जुलाई तक 35 हजार तक के छात्रों की च्वाइस लॉकिंग थीं। अभ्यर्थियों को च्वाइस कॉलेज करने के लिए पंद्रह हजार रुपये का ऑनलाइन पेमेंट करना होता है। पेमेंट के दौरान सर्वर में तकनीकी खराबी आ गई। छात्रों द्वारा पेमेंट करने के बावजूद पेमेंट शो नहीं हो रहा था। ऐसे में छात्रों को दोबारा पेमेंट करना पड़ा। कई छात्र ऐसे थे जिन्होंने दो-तीन बार पेमेंट किया। इन छात्रों का कहना था कि पंद्रह हजार के बदले उन्होंने पैंतालीस हजार का पेमेंट कर दिया। इसके अलावा मास्टर कार्ड से किया गया पेमेंट स्वीकृत नहीं हो रहा था। सर्वर प्रोसेसिंग दिखा रहा था लेकिन पेमेंट नहीं हो रहा था। आगरा कॉलेज के काउंसिलिंग इंचार्ज डॉ. अनुज पाराशर ने बताया कि उनके पास भी कई छात्र अपनी समस्या लेकर आए थे। इन छात्रों का पेमेंट काफी प्रयासों के बाद हो सका। 35 हजार तक की रैंक वाले छात्रों की काउंसिलिंग के बाद अब अधिक रैंक वाले छात्रों की च्वाइस लॉकिंग शुरू हो गई है।

जेईई मेंस के विद्यार्थियों की च्वाइस लॉकिंग नौ, दस को

जेईई मेंस में बैठने वाले छात्रों की च्वाइस लॉकिंग नौ, दस जुलाई को होगी। इन छात्रों को छह-सात जुलाई को यूपीएसईई की वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन कराना होगा। इसके बाद इनके दस्तावेजों की जांच होगी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस