विंबलडन, पीटीआइ। सानिया मिर्जा और मैट पाविक की भारत और क्रोएशिया के खिलाडि़यों की जोड़ी विंबलडन के मिकस्ड डबल्स वर्ग के सेमी फाइनल में पहुंच गई। सानिया और पाविक की छठी वरीयता प्राप्त जोड़ी ने पीयर्स और डाब्रोवस्की के खिलाफ 6-4, 3-6 और 7-5 के कड़े मुकाबले में जीता। इस जीत के साथ ही वह पहली बार विंबडलन सेमीफाइनल में कदम रखने में कामयाब हुई।

क्वार्टर फाइनल में इस जोड़ी को इवान डोडिग और लतीशा चान की जोड़ी से वाकओवर मिला। सानिया और पाविक ने शुरुआती दौर में स्पेन के डेविड वेगा हनरंडेज और जार्जिया की नतेला जालामिइजे की जोड़ी को 6-4, 3-6, 7-6 से हराया था। क्वार्टर फाइनल में इस जोड़ी के सामने ब्रूनो सोरेस और बीट्रिज हद्दाद मैया की ब्राजीलियाई जोड़ी या जान पीयर और गैब्रिएला डाब्रोवस्की की आस्ट्रेलियाई-कनाडाई जोड़ी होगी।

मारिया पहली बार क्वार्टर फाइनल में पहुंचीं

महिला सिंगल्स वर्ग में तात्याना मारिया ने दूसरे सेट में दो मैच प्वाइंट बचाए और 2017 की फ्रेंच ओपन चैंपियन जेलेना ओस्टापेंको को हराकर 34 साल की उम्र में पहली बार ग्रैंडस्लैम के क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई। विश्व रैंकिंग में 103वें स्थान पर काबिज मारिया ने करीबी मुकाबले में 5-7, 7-5, 7-5 से जीत हासिल की। जर्मनी की यह खिलाड़ी सिंगल्स ड्रा में अब सबसे उम्रदराज महिला हैं।

ग्रैंडस्लैम में इससे पहले मारिया का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 2015 में विंबलडन के तीसरे दौर में पहुंचना था। अगले दौर में उनका सामना हमवतन ज्यूल निमियर से होगा। पहली बार विंबलडन में भाग ले रहीं निमियर ने स्थानीय दिग्गज हीथर वाटसन को 6-2, 6-4 से शिकस्त दी। अन्य मुकाबलों में चेक गणराज्य की मैरी बुजकोवा ने चौथे दौर के मैच में फ्रांस की कैरोलिन गार्सिया को 7-5, 6-2 से हराकर अपने पहले ग्रैंडस्लैम क्वार्टर फाइनल में प्रवेश किया।

Edited By: Viplove Kumar