जागरण न्यूज नेटवर्क, नई दिल्ली। पूर्व दिग्गज भारतीय टेनिस खिलाड़ी रमेश कृष्णन ने कहा है कि कोरोना वायरस महामारी ने खिलाड़ियों की परेशानी काफी बढ़ा दी है और इससे उनका कोर्ट पर समय काफी खराब हो रहा है। कोरोना के कारण इस खेल में काफी नियम बदल दिए गए हैं और खिलाड़ियों को कोर्ट पर खुद ही अपनी चीजों को बार-बार लेना होता है। गुरुवार को ही फ्रेंच ओपन में मारिन सिलिक के खिलाफ मैच के दौरान रोजर फेडरर को चेयर अंपायर ने धीमा खेलने को लेकर चेतावनी दी थी जिसके बाद स्विट्जरलैंड के इस खिलाड़ी ने कहा था कि वह जानबूझ कर समय खराब नहीं कर रहे बल्कि तौलिया लेने के लिए बार-बार एक तरफ से दूसरी तरफ उन्हें जाना पड़ रहा है।

शनिवार को 60 वर्ष के हुए कृष्णन ने दैनिक जागरण से कहा कि कोरोना महामारी ने काफी चीजें बदल दी हैं। एक तरह से देखा जाए तो खिलाड़ियों को इस संक्रमण से बचने के लिए काफी ध्यान देना होगा। इसके अलावा इस महामारी ने खिलाड़ियों की कोर्ट पर भी परेशानी बढ़ा दी है जिससे उन्हें खुद ही अपनी चीजें लेनी होती हैं और ऐसे में समय का बर्बाद होना लाजिमी है।

उन्होंने फ्रेंच ओपन से हटने वाली जापान की महिला टेनिस खिलाड़ी नाओमी ओसाका के लिए सहानुभूति दिखाई। उन्होंने कहा कि मेरी सहानुभूति ओसाका के साथ है। मैच के बाद संवाददाता सम्मेलन में आना अनिवार्य है और यह खेल का अहम हिस्सा है। मैं अभी फ्रेंच ओपन देखता हूं।

रमेश कृष्णन की उपलब्धियां 

- 1979 में फ्रेंच ओपन और विंबलडन में जूनियर चैंपियनशिप का खिताब जीता और विश्व के नंबर एक जूनियर खिलाड़ी भी रहे थे

- 1987 में भारतीय डेविस कप टीम के मुख्य सदस्य थे और टीम फाइनल में पहुंची थी

- 1989 ऑस्ट्रेलियन ओपन में दूसरे दौर के मैच में तब के विश्व नंबर एक खिलाड़ी मैट्स विलंडर को हराया था

- 08 शीर्ष सिंगल्स खिताब और एक डबल्स खिताब भी अपने नाम किया

Edited By: Tanisk