नई दिल्ली, जेएनएन। लाल बजरी के बादशाह राफेल नडाल ने शुक्रवार को रिकॉर्ड 10वीं बार फ्रेंच ओपन के खिताबी मुकाबले में प्रवेश कर लिया। अब रोलां गैरां पर रिकॉर्ड 10वीं ट्रॉफी के लिए स्पेनिश स्टार का सामना स्विट्जरलैंड के स्टेन वावरिंका से होगा।

दुनिया के चौथे नंबर के खिलाड़ी राफेल ने सेमीफाइनल में ऑस्टिया के डोमिनिक थिएम को आसानी से 6-3, 6-4, 6-0 से मात दी। नडाल की यह पेरिस में 80 मैचों में 78वीं जीत है। उन्होंने यहां सिर्फ दो मैच गंवाए हैं। नडाल और वावरिंका 18 बार आपस में भिड़े हैं जिसमें 15 बार नडाल और तीन बार वाविरंका जीते हैं। 

दुनिया के तीसरे नंबर के खिलाड़ी वावरिंका ने ब्रिटिश खिलाड़ी एंडी मरे का पांच सेट तक चले मुकाबले में 6-7, 6-3, 5-7, 7-6, 6-1 से शिकस्त देकर उनका पेरिस में पहली ट्रॉफी जीतने का सपना एक बार फिर चकनाचूर कर दिया। 

मरे पिछले साल फाइनल में नोवाक जोकोविक से हार गए थे। इसके साथ ही वावरिंका ने पिछले साल अंतिम चार मुकाबले में मरे से मिली हार का हिसाब भी चुकता कर लिया। वावरिंका पेरिस में दूसरी और कुल चौथी बार किसी ग्रैंडस्लैम के फाइनल में पहुंचे हैं। यह स्विस खिलाड़ी जिन तीन ग्रैंडस्लैम के फाइनल (ऑस्ट्रेलियन ओपन 2014, फ्रेंच ओपन 2015 और यूएस ओपन 2016) में पहुंचा खिताब भी जीतने में सफल रहा है।

बने सबसे उम्रदराज खिलाड़ी

इसके साथ ही वावरिंका (32 साल, 75 दिन) इस टूर्नामेंट के खिताबी मुकाबले में पहुंचने वाले सबसे उम्रदराज खिलाड़ी बन गए। उनसे पहले यह रिकॉर्ड यूगोस्लाविया के निकोला पिलिक के नाम था, जिन्होंने 1973 में फाइनल में पहुंच यह रिकॉर्ड बनाया था।

क्रिकेट की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें

खेल जगत की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस