ब्रिसबेन, एपी। दुनिया के नंबर एक टेनिस खिलाड़ी सर्बिया के नोवाक जोकोविक को आस्ट्रेलिया में प्रवेश नहीं दिया गया और उनका वीजा बुधवार देर रात मेलबर्न पहुंचने के बाद रद कर दिया गया। आस्ट्रेलियाई सीमा बल ने गुरुवार को कहा कि जोकोविक प्रवेश आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए उचित सबूत प्रदान करने में विफल रहे और उसके बाद उनका वीजा रद कर दिया गया। मेडिकल छूट मिलने के बाद ही जोकोविक मेलबर्न के लिए रवाना हुए थे। यहां उन्हें आस्ट्रेलियन ओपन में भाग लेना था।

कोरोना टीकाकरण नियमों से संबंधित वीजा आवेदान के मुद्दे पर जोकोविक को आस्ट्रेलिया पहुंचने पर अदालत के फैसले की प्रतीक्षा में आव्रजन विभाग के होटल में कैद रहते हुए एक दिन बिताना पड़ा। इस दिग्गज खिलाड़ी को कम से कम एक और रात आव्रजन विभाग के कैद में बिताना पड़ सकता है। इस बात की भी संभावना है कि वह इस सप्ताह के अंत तक इसी तरह से रहें।

जोकोविक ने इसके खिलाफ अदालत का दरवाजा खटखटाया। फेडरल सर्किट कोर्ट के न्यायाधीश एंथनी केली ने वीजा फैसलों की समीक्षा के लिए आवेदन प्राप्त करने में देरी ने जोकोविक के मामले को सोमवार तक के लिए स्थगित कर दिया और उनके निर्वासन पर अस्थायी प्रतिबंध लगा दिया गया। सरकार के एक वकील ने सहमति व्यक्त की कि 34 वर्षीय टेनिस खिलाड़ी को अगली सुनवाई से पहले निर्वासित नहीं किया जाना चाहिए।

आस्ट्रेलिया और सर्बिया आमने-सामने

इस मामले को लेकर आस्ट्रेलिया और सर्बिया आमने-सामने आ गए हैं। आस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्काट मारिसन ने कहा, "नियम स्पष्ट हैं। आपको मेडिकल छूट की जरूरत है और जोकोविक के पास मान्य मेडिकल छूट नहीं है। हमने सीमा पर बात की है। जोकोविक का वीजा रद हो चुका है। जब बात सीमा की हो, कोई भी नियमों से ऊपर नहीं है। हमारी कड़ी सीमा नीतियों की वजह से ही आस्ट्रेलिया में कोरोना मृत्यु दर कम है। हमें सतर्क रहना होगा।" स्वास्थ्य मंत्री ग्रेग हंट ने कहा कि सीमा अधिकारियों ने जोकोविक के मेडिकल छूट के सबूत के आधार पर वीजा रद करने का फैसला लिया। जोकोविक इस फैसले के खिलाफ अपील करने के लिए स्वतंत्र हैं लेकिन वीजा रद हुआ है तो उन्हें देश छोड़ना होगा।

सर्बिया के राष्ट्रपति अलेक्जेंडर वुचिच ने इंस्टाग्राम पर कहा कि उन्होंने जोकोविक से बात की है। उन्होंने कहा कि वह सर्बियाई अधिकारियों से बात कर रहे हैं ताकि दुनिया के सर्वश्रेष्ठ टेनिस खिलाड़ी को यूं प्रताड़ित किए जाने पर जल्दी रोक लगे। वुचिच ने कहा, "मैंने जोकोविक को बताया कि पूरा सर्बिया उनके साथ है और हम पूरी कोशिश कर रहे हैं कि दुनिया के सर्वश्रेष्ठ टेनिस खिलाड़ी की इस तरह प्रताड़ना पर तुरंत रोक लगे।"

संघीय सरकार और प्रदेश सरकार की अलग-अलग जरूरतों से पैदा हुए भ्रम के बारे में पूछने पर मारिसन ने कहा कि यह यात्री पर निर्भर करता है कि वह यहां पहुंचने पर सही दस्तावेज दे। उन्होंने इस आरोप को भी खारिज किया कि जोकोविक को निशाना बनाया जा रहा है।

मालूम हो कि जोकोविक ने कोरोना टीका लगवाया है या नहीं इसकी जानकारी देने से इन्कार किया है और आस्ट्रेलियन ओपन के आयोजकों का कहना है कि सभी खिलाड़ी टीकाकरण की स्थिति स्पष्ट करने पर या मेडिकल छूट मिलने पर ही टूर्नामेंट में हिस्सा ले सकते हैं।

20 बार के ग्रैंडस्लैम विजेता जोकोविक ने मंगलवार को कहा था कि उन्हें आस्ट्रेलिया जाने के लिए मेडिकल छूट मिल गई है और वह वहां जा रहे हैं। इसको लेकर हालांकि, आस्ट्रेलिया में विवाद भी हुआ था और जोकोविक को मेडिकल छूट देने पर इंटरनेट मीडिया पर कड़ी प्रतिक्रिया देखने को मिली थी।

जोकोविक की मां बोलीं, हो रहा है अनुचित व्यवहार

जोकोविक की मां ने आस्ट्रेलिया के अधिकारियों पर उनके बेटे को कैदी की तरह बहुत बुरे आवास में रखने का आरोप लगाते हुए कहा कि उनके साथ अनुचित व्यवहार हो रहा है। उन्होंने कहा, "मेरी जोकोविक से बात हुई। वह ठीक था और सोने की कोशिश कर रहा था। एक मां के रूप में, मैं क्या कह सकती हूं? अगर आप एक मां हैं, तो आप बस कल्पना कर सकते हैं कि आप कैसा महसूस करेंगें।" वहीं, उनके पिता एस जोकोविक ने बताया कि उनके बेटे को ऐसे कमरे में रखा गया है जिसमें कोई और प्रवेश नहीं कर सकता और दो पुलिस अधिकारी पहरा दे रहे हैं।

नडाल बोले, जोकोविक के लिए बुरा लग रहा है

स्पेन के राफेल नडाल ने इस पूरे प्रकरण पर अपनी राय रखते हुए कहा कि उन्हें जोकोविक के लिए बुरा लग रहा है लेकिन सर्बियाई खिलाड़ी को महीनों से पता था कि अगर वह कोरोना टीकाकरण किए बिना आस्ट्रेलिया आएंगे तो उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ेगा। नडाल ने कहा, "जिस तरह की स्थिति बनी है उससे मैं सहमत नहीं हूं। मुझे जोकोविक के लिए बुरा लग रहा है, लेकिन उन्हें पहले ही पता था कि ऐसा होगा तो उन्हें खुद फैसला लेना चाहिए था।"

Edited By: Vikash Gaur