न्यूयार्क। रूसी टेनिस सुंदरी मारिया शारापोवा ने ग्रैंडस्लैम टूर्नामेंट में अपनी वापसी का जश्न दुनिया की नंबर दो खिलाड़ी सिमोना हालेप को मात देकर मनाया। डोपिंग के चलते 15 महीने के प्रतिबंध के बाद अपना पहला ग्रैंडस्लैम टूर्नामेंट खेलने वाली शारापोवा ने यूएस ओपन के पहले दौर में रोमानियाई खिलाड़ी हालेप को 6-4, 4-6, 6-3 से मात दी। पांच बार की ग्रैंडस्लैम विजेता शारापोवा ने यह मुकाबला दो घंटे, 44 मिनट में अपने नाम किया। यह शारापोवा की हालेप पर सात मैचों में सातवीं जीत है।

 

30 वर्षीय शारापोवा को पिछले साल ऑस्ट्रेलियन ओपन के दौरान प्रतिबंधित पदार्थ के सेवन का दोषी पाया गया था। वह इस टूर्नामेंट के क्वार्टर फाइनल में सेरेना विलियम्स से हार गईं थीं। उसके बाद से यह उनका पहला मेजर टूर्नामेंट है। 2006 की चैंपियन और पूर्व नंबर एक शारापोवा को वाइल्डकार्ड के जरिये प्रवेश दिया गया है। अगले दौर में 146वें नंबर की खिलाड़ी शारापोवा का सामना हंगरी की टिमिया बाबोस से होगा, जिन्होंने स्विट्जरलैंड की विक्टोरिजा गोलूबिक को 7-5, 5-7, 7-5 से पराजित किया। 

 

वीनस के बीस साल : दिग्गज अमेरिकी टेनिस खिलाड़ी वीनस विलियम्स ने यूएस ओपन में 20 साल पूरे करने का जश्न जीत के साथ मनाया। वीनस के साथ यहां के आर्थर ऐश स्टेडियम में भी टूर्नामेंट का 20वां साल है, जहां उन्होंने दो खिताब भी जीते हैं। वीनस स्लोवाकिया की क्वालीफायर विक्टोरिया कुजमोवा को 6-3, 3-6, 6-2 से मात देकर दूसरे दौर में पहुंचीं। अगले दौर में दुनिया की नौवें नंबर की खिलाड़ी वीनस की भिड़ंत फ्रांस की ओसेन डोडिन से होगी, जिन्होंने हमवतन पॉलिन को 3-6, 6-0, 7-6 से हराया। वीनस ने इस स्टेडियम में 17 साल की उम्र में (1997) अपने पहले मैच लातविया की लारिसा नीलैंड को पहले दौर में 6-7, 6-0, 6-1 से हराया था। उन्होंने इस टूर्नामेंट में फाइनल तक का सफर तय किया जहां उन्हें मार्टिना हिंगिस से हार मिली थी। वीनस 1958 के बाद इस टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंचने वाली पहली गैरवरीय खिलाड़ी बनी थीं। इसके बाद वह 2000 और 2001 में यूएस ओपन चैंपियन बनीं। 37 साल की वीनस इस सत्र में लय में हैं और उन्होंने ऑस्ट्रेलियन ओपन और विंबलडन के फाइनल तक का सफर तय किया, जहां उन्हें क्रमश: सेरेना और गार्बाइन मुगुरूजा से हार का सामना करना पड़ा। 2003 के बाद यह पहला अवसर है जब वीनस ने किसी सत्र में दो ग्रैंडस्लैम के फाइनल में जगह बनाई है।

 

वोज्नियाकी आगे बढ़ीं : डेनमार्क की कैरोलिन वोज्नियाकी ने रोमानिया की मिहेला बुजर्नेस्कू को 6-1, 7-5 से, अमेरिका की स्लोने स्टीफंस ने इटली की रॉर्बेटा विंसी को 7-5, 6-1 से और स्लोवाकिया की डोमिनिका सिबुलकोवा ने हमवतन जाना केपेलोवा को 6-7, 6-3, 6-2 से मात दी। अन्य मुकाबलों में विंलबडन चैंपियन स्पेन की गार्बाइन मुगुरूजा ने अमेरिका की वारवरा लेपचेंको को 6-0, 6-3 से, चेक गणराज्य की पेत्रा क्वितोवा ने सर्बिया की जेलेना जानकोविक को 7-5, 7-5 से, सुआरेज नवारो ने आइपेक सोयलू को 6-4, 6-2 से और एकातेरिना माकारोवा ने मोना ब्राथेल 6-2, 6-1 से पराजित कर दूसरे दौर में प्रवेश किया।  

 

कोंटा की सनसनीखेज हार : खिताब की दावेदारों में शुमार सातवीं वरीय ब्रिटिश खिलाड़ी जोहाना कोंटा पहले ही दौर में बाहर हो गईं। कोंटा 78वीं रैंकिंग की सर्बिया की अलेक्जेंड्रा क्रूनिच के हाथों 6-4, 3-6, 4-6 से उलटफेर का शिकार हो गईं।

 

खेल की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

 

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sanjay Savern

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस