नई दिल्ली, टेक डेस्क। टेक्नोलॉजी का हमारे जीवन में कितना महत्व है ये हम अच्छी तरह से जानते हैं। आज जो टेक्नोलॉजी ट्रेंड में है वो कल होगा या नहीं ये कहना मुश्किल है। टेक्नोलॉजी शुरू से ही अपडेट होती रही है। ऐसे में इस सप्ताह टेक्नोलॉजी में कौन सी खबर टॉप ट्रेंड में बनी रही, इसके बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं।  

Samsung Galaxy Fold का प्री-ऑर्डर फिर से शुरु

दक्षिण कोरियाई स्मार्टफोन निर्माता कंपनी Samsung ने इस साल फरवरी में आयोजित मोबाइल वर्ल्ड कांग्रेस में दुनिया के सबसे पहले फोल्डेबल स्मार्टफोन Samsung Galaxy Fold को पेश किया था। इस फोन के लॉन्च होने के कुछ महीने बाद इसमें आई दिक्कतों के बाद कंपनी ने फिर से इसे दोबारा लॉन्च किया था। इसके बाद इसे पिछले दिनों भारत में लॉन्च किया गया था।

Samsung Galaxy Fold को 4 अक्टूबर को पहली बार भारत में प्री-ऑर्डर के लिए उपलब्ध कराया गया था। 8 नवंबर से इस स्मार्टफोन को फिर से प्री-ऑर्डर के लिए उपलब्ध कराया जा रहा है। इस स्मार्टफोन को कंपनी के आधिकारिक वेबसाइट से दिन के 12 बजे से प्री-ऑर्डर किया जा सकेगा। इसके अलावा देश के 25 शहरों के चुनिंदा Samsung स्टोर्स पर इसे प्री-ऑर्डर के लिए उपलब्ध कराया जाएगा।

Samsung Galaxy Fold को केवल एक ही ऑप्शन 12GB रैम और 512GB स्टोरेज के साथ लॉन्च किया गया है। इस स्मार्टफोन की कीमत Rs 1,64,999 है। प्रीमियम रेंज का डिवाइस होने की वजह से इसके लिमिटेड डिवाइसेज को ही सेल के लिए उपलब्ध कराया जाएगा। इस स्मार्टफोन के साथ कंपनी EMI जैसे ऑफर्स भी उपलब्ध करा रही है। इस स्मार्टफोन की सबसे खास बात ये है कि इसमें फोल्डेबल स्क्रीन के साथ-साथ एक मेन स्क्रीन भी दी गई है।

OnePlus रही प्रीमियम सेगमेंट में अव्वल

OnePlus ने इस साल की तीसरी तिमाही में भारत के प्रीमियम स्मार्टफोन बाजार में पहला पायदान हासिल किया है। काउंरप्वाइंट की रिपोर्ट के मुताबिक, OnePlus का मार्केट 35 फीसद रहा। वहीं, Samsung का मार्केट शेयर 23 फीसद और Apple का मार्केट शेयर 22 फीसद रहा। यह तीसरी तिमाही के आंकड़ें हैं। अगर दूसरी तिमाही की बात की जाए तो इस दौरान Apple और Samsung के बीच कड़ी टक्कर देखने को मिली। काउंरप्वाइंट की रिपोर्ट के मुताबिक, प्रीमियम स्मार्टफोन सेगमेंट में हर वर्ष 66 फीसद की बढ़ोतरी हुई है।

OnePlus ने इस साल अपने चार स्मार्टफोन्स भारतीय बाजार में लॉन्च किए हैं। मई में कंपनी ने अपने दो स्मार्टफोन्स OnePlus 7 और OnePlus 7 Pro को लॉन्च किया था। हाल ही में कंपनी ने अपने दो और स्मार्टफोन्स OnePlus 7T और OnePlus 7T Pro को भी लॉन्च किया है। कंपनी ने OnePlus 7 Pro, OnePlus 7T और OnePlus 7T Pro को 90Hz रिफ्रेश रेट वाली डिस्प्ले टेक्नोलॉजी के साथ लॉन्च किया है। यही नहीं, कंपनी ने अपने सभी स्मार्टफोन्स 48 मेगापिक्सल वाले रियर कैमरे के साथ लॉन्च किया है।

Mozila Firefox बग का हुआ शिकार

यूजर्स की निजी जानकारियों पर तो हैकर्स की नजर हमेशा बनी ही रहती है। लेकिन अब बड़ी टेक्नोलॉजी कंपनियों को भी वायरस और मेलवेयर अटैक का सामना करना पड़ रहा है। वैसे तो कंपनियां खुद को बचाने की कोशिश करती हैं लेकिन हैकर्स कई नए तरीके अपना रहे हैं, जिससे वो कंपनियों की सिक्युरिटी में सेंधमारी कर सके। इसी क्रम में एक नया मामला सामने आया है जिसके मुताबिक, Mozilla Firefox ब्राउजर एक खतरनाक बग का शिकार हुआ है।

यह बग Mozilla Firefox इस्तेमाल करने वाले विंडोज या मैक पीसी की स्क्रीन को फ्रीज कर रहा है। यही नहीं इस बग की वजह से ब्राउजर ब्लॉक हो जाता है। Ars Technica ने हाल ही में एक रिपोर्ट जारी की है। इस रिपोर्ट के मुताबिक, यह बग वेबसाइट्स के जरिए कंप्यूटर तक पहुंचता और स्क्रीन को फ्रीज कर देता है। हैकर्स इस बग को शो करते हैं और ब्राउजर को लॉक कर देते हैं। यह बग एक मैसेज दिखाता है। इस मैसेज में यह चेतावनी दी जाती है कि आपका डिवाइस पाइरेटेड वर्जन पर काम कर रहा है। अगर वो ओरिजनल वर्जन चाहते हैं तो उन्हें एक नंबर पर कॉल करना होगा। अगर यूजर ऐसा नहीं करते हैं तो उनकी डिवाइस को रिमोटली डिसेबल कर दिया जाएगा।

Apple ने जारी किए नए प्राइवेसी फीचर्स

Apple ने बढ़ रहे डाटा लीक्स को देखते हुए यूजर्स के लिए नए सिक्युरिटी और प्राइवेसी फीचर्स रोल आउट किया है। इन नए सिक्युरिटी फीचर्स की वजह से यूजर्स की निजी जानकारियां, यहां तक की ई-मेल अड्रेस को भी हाइड करने का ऑप्शन मिलेगा। Apple के ये सिक्युरिटी फीचर्स यूजर्स के लिए कंपनी के डिवाइसेज के लिए रोल आउट कर दिए गए हैं।

नए सिक्युरिटी फीचर्स की बात करें तो यूजर्स अब अपने Apple ID की मदद से ऐप्स और वेबसाइट में तेजी से लॉग-इन कर सकेंगे। इसके लिए यूजर्स को बस साइन-इन विद Apple पर टैप करना होगा। इसके बाद यूजर्स अपने Face ID या Touch ID का इस्तेमाल करके Apple के ऐप्स और वेबसाइट पर लॉग-इन कर सकेंगे। Apple कभी भी अपने यूजर्स के प्रोफाइल को ट्रैक नहीं करता है। नए प्राइवेस अपडेट में अगर यूजर चाहे तो Apple ID में इस्तेमाल होने वाले ई-मेल आईडी को हाईड कर सकते हैं। ऐसा करने पर किसी भी ऐप के साथ यूजर का ई-मेल आईडी शेयर नहीं होगा और उनकी प्राइवेसी बनी रहती है। इसके अलावा यूजर्स चाहें तो Apple के सभी प्लेटफॉर्म के लिए यूनिक ई-मेल अड्रेस भी क्रिएट कर सकते हैं।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस