नई दिल्ली (जेएनएन)। टेलिकॉम सेक्टर की दिग्गज कंपनियां वोडाफोन इंडिया, आइडिया सेल्यूलर और रिलायंस जियो अपने-अपने नेटवर्क्स को 5जी तकनीक के लिए तैयार कर रही हैं। साथ ही साल 2020 तक भारत में MIMO तकनीक लॉन्च करने की भी तैयारी की जा रही है। इस तकनीक को 5जी नेटवर्क के लिए एक महत्वपूर्ण कारक माना जाता है।

एयरटेल ने पहले ही शुरू किया ट्रायल:

देश की सबसे बड़ी टेलिकॉम कंपनी भारती एयरटेल ने इस तकनीक के पहले चरण को बेंगलुरु और कोलकाता में जारी कर दिया है। इसके बाद कंपनी पुणे, हैदराबाद और चंदीगड़ जैसे अन्य शहरों में भी इसका विस्तार करेगी।

क्या है कंपनियों का कहना?

आईडिया सेल्यूलर के मैनेजिंग डायरेक्टर हिमांशु कापानिया ने बताया, “हम भारत में MIMO तकनीक पर 4जी तकनीक लाने की प्रक्रिया में हैं।” वहीं, वोडाफोन इंडिया के डायरेक्टर विशांत वोरा ने कहा, “5जी को जारी किए जाने में अभी भी काफी समय है। ऐसे में हम MIMO तकनीक जैसी 5जी टेक्नोलॉजी की कुछ चीजों को 4जी में लाने जा रहे हैं और उन्हें लागू कर रहे हैं। हम इसका ट्रायल कर रहे हैं।” इसके अलावा जियो के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने पहले ही कहा था कि 4जी तकनीक को आसानी से 5जी और आगे की तकनीकों पर बढ़ाया जा सकता है।

क्या है Mimo तकनीक?

इस तकनीक के जरिए बेस स्टेशन की क्षमता 5 से 7 गुना बढ़ जाती है। साथ ही इससे हस्तक्षेप काफी हद तक कम हो जाता है। यानी डिवाइस में जाने वाले सिग्नल का ट्रांसमिशन काफी बढ़ जाता है। इसे आप ऐसे भी समझ सकते हैं कि जो यूजर वॉयस और डाटा इस्तेमाल कर रहा है इसे 30 से 35 Mbps तक की औसत स्पीड मिलेगी। साथ ही 50 Mbps की उच्चतम स्पीड मिलेगी। अगर 4जी की बात करें तो यूजर्स को 4 Mbps से 16 Mbps की स्पीड दी जाती है।

यह भी पढ़ें:

पेमेंट बैंक के क्षेत्र में भी कदम रखेगा रिलायंस जियो, दिसंबर में हो सकता है लॉन्च

ये स्मार्टफोन्स नहीं आए पसंद तो 30 दिन में मिलेगा पैसा वापस

जियो को टक्कर देने के लिए एयरटेल और आइडिया ने 84GB डाटा प्लान किए पेश


 

Posted By: Shilpa Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस