नई दिल्ली, टेक डेस्क। इस सप्ताह दो स्मार्टफोन्स लॉन्च हुए हैं। साथ ही कई और खबरें इस सप्ताह सुर्खियों में बनी रही। Vivo ने अपना एक और मिड रेंज का स्मार्टफोन Vivo S1 भारत में लॉन्च कर दिया है। इस स्मार्टफोन को स्टाइलिश डिजाइन के साथ लॉन्च किया गया है। Vivo S1 को तीन स्टोरेज ऑप्शन 4GB+128GB, 6GB+64GBऔर 6GB+128GB के साथ लॉन्च किया गया है। फोन दो कलर ऑप्शन कॉस्मिक ग्रीन और स्काईलाइन ब्लू में लॉन्च किया गया है।

फोन के 4GB+128GB वेरिएंट की कीमत Rs 17,990 रखी गई है। इसके 6GB+64GB वेरिएंट की कीमत Rs 18,990 रखी गई है, जबकि इसके 6GB+128GB वेरिएंट की कीमत Rs 19,990 रखी गई है। फोन में इन-डिस्प्ले फिंगर प्रिंट सेंसर और ट्रिपल रियर कैमरा सेट अप दिया गया है। साथ ही इसमें सेल्फी के लिए 32 मेगापिक्सल का कैमरा दिया गया है। इस स्मार्टफोन का पूरा रिव्यू देखने के लिए आप हमारे जागरण हाई टेक पर जा सकते हैं।

Samsung Galaxy Note 10 सीरीज में दो स्मार्टफोन्स Galaxy Note 10 और Galaxy Note 10+ लॉन्च किए गए हैं। इसे भारत में 20 अगस्त को लॉन्च किया जाएगा। Galaxy Note 10 और Galaxy Note 10+ दोनों में ही आपको डायनामिक AMOLED डिस्प्ले पैनल के साथ ही HDR10+ सपोर्ट भी मिलता है।

ग्लोबली Galaxy Note 10 का LTE वेरिएंट 8GB रैम और 256GB स्टोरेज के साथ उपलब्ध होगा जबकि इसका 5G वेरिएंट केवल होम मार्केट में ही उपलब्ध होगा जो कि 12GB रैम और 256GB या 512GB की बिल्ट इन स्टोरेज के साथ आएगा। Galaxy Note 10 में ट्रिपल रियर सेंसर दिया गया है जबकि Galaxy Note 10+ में ट्रिपल रियर सेंसर के साथ एक अतिरिक्त 3D सेंसर भी दिया गया है। फोन के फ्रंट में फिंगरप्रिट स्कैनर भी दिया गया है।

लोकप्रिय माइक्रोब्लॉगिंग साइट Twitter ने एक सनसनीखेज खुलासा किया है जिसमें उसने यह माना कि मई 2018 में मोबाइल ऐप के जरिए जिन यूजर्स ने इस प्लेटफॉर्म पर एडवर्टाइजमेंट को देखा है वो एक ग्लिच के शिकार हुए हैं। Twitter ने अपने हेल्प पेज पर एक ब्लॉग के जरिए बताया कि जिन यूजर्स ने एडवर्टिजमेंट देखा है उनकी जानकारियां एड कंपनियों के पास बिना यूजर्स के परमिशन के ही पहुंच गया है। हालांकि, अपने ब्लॉग में Twitter ने यूजर्स से माफी भी मांगी है और कहा कि भविष्य में ऐसी कोई भी गलती उनसे नहीं होगी।

Twitter ने जिस डाटा के बारे में बात की है उसमें यूजर्स के निजी कॉन्टैक्ट डिटेल्स जैसे की कंट्री कोड के साथ कॉन्टैक्ट डिटेल्स शामिल हैं। यूजर्स के इस डाटा का इस्तेमाल एडवर्टिजमेंट के लिए किया गया है। Twitter ने यह भी कहा कि अगर कोई यूजर ये जानना चाहता है कि वे प्रभावित हुए हैं कि नहीं, इसके लिए हम फिलहाल इन्वेस्टिगेशन कर रहे हैं और जैसे ही जानकारियां इकठ्ठा होंगी हम अपने यूजर्स से शेयर करेंगे।

Intel India ने भारत में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस इकोसिस्टम को डेवलप करने के लिए 1 लाख 50 हजार से ज्यादा डेवलपर्स, स्टूडेंड्स और प्रोफेसर को ट्रेन किया है। Intel India ने कहा कि भारत में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को बढ़ाने के लिए हमने लोकल टैलेंट को ट्रेन किया है। साल 2017 से अब तक हमने 150 ऑर्गेनाइजेशन की मदद से डेवलपर्स, स्टूडेंट्स और प्रोफेसर को ट्रेन किया है। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस इन दिनों इंडस्ट्री के लिए रियलिटी में तब्दील होती जा रही है। भारत के पास मैथ्मैटिक्स और स्टैटिक्स की जानकारी रखने वाले टैलेंट भरे हुए हैं। यहां के प्रोग्रामर्स आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को शुरू से ही नर्चर करके भविष्य की टेक्नोलॉजी को और भी बेहतर बना सकते हैं। 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Harshit Harsh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप