नई दिल्ली, टेक डेस्क. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पर्सनल वेबसाइट (narendramodi.in) से डाटा चोरी की घटना को अंजाम दिया गया है। यह पिछले दो माह में घटी दूसरी ऐसी घटना है। इससे पहले सिंतबर माह में पीएम मोदी की पर्सनल वेबसाइट और Twitter अकाउंट को हैक कर लिया गया था। इस बार पीएम मोदी की पर्सनल वेबसाइट से करीब 5 लाख लोगों का डाटा चोरी किया गया है और उन्हें बिक्री के लिए डार्क वेब पर उपलब्ध करा दिया गया है। हैकर्स की तरफ से चोरी किये गए डाटा के जरिए 5,70,000 लोगों की अहम जानकारी चोरी की गई है। इसमें लोगों के नाम, मोबाइल नंबर, वेबसाइट जैसे कई तरह की जानकारी शामिल है।

चोरी के डाट से अपराधिक घटनाओं के दिया जा सकता है अंजाम 

साइबर सिक्योरिटी फर्म Cyble की रिपोर्ट के मुताबिक चोरी किये गये डाटा से अपराधिक घटनाओं के अंजाम दिया जा सकता है। रिपोर्ट के मुताबिक इस डेटा का इस्तेमाल फिशिंग ईमेल, स्‍पैम टेक्‍स्‍ट मैसेजेस भेजने के लिए किया जा सकता है। बता दें कि जिन 5.70 लाख लोगों का डाटा लीक हुआ है, उसमे से 2.92 लाख से ज्‍यादा ऐसे डोनर मौजूद हैं, जिन्होंने कोविड-19 के अलावा स्‍वच्‍छ भारत, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ जैसी मुहिम के लिए दान किया है। साइबर सिक्योरिटी फर्म Cyble की रिपोर्ट के मुताबिक दान करने वाले यूजर्स ने किस मोड से, किस बैंक से पेमेंट किया, इसकी हर एक डिटेल मौजूद हैं, जो कि सुरक्षा लिहाज से काफी खतरनाक साबित हो सकता है। 

कैसे चेक करें किसका डाटा हुआ लीक 

डाटा लीक की घटना को चेक करने के लिए यूजर्स Cyble के इंस्टाग्राम पेज पर विजिट करना होगा, जहां डाटी लीक होने वाले लोगों की डिटेल मौजूद है। साथ ही Cbyle वेबसाइट की लिंक दी गई है, जिस पर क्लिक करके डाटा लीक की जानकारी हासिल की जा सकती है। 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस