नई दिल्ली। पेटीएम ने अपने ऑफलाइन बिजनेस शुरू किया और सरकार की ओर से 500 और 1000 रुपये के बड़े नोटों को बंद करने का फायदा उसे मिला। अलीबाबा के समर्थन वाला यह पेमेंट प्लेटफॉर्म पिछले छह दिनों में 2.5 करोड़ ऑफलाइन लेन-देन कर चुका है। इस दौरान कंपनी का ऑफलाइन लेन-देन कुल 150 करोड़ रुपये का हुआ है। यह वृद्धि एक सप्ताह से भी कम समय में हुई है। दरअसल, पेटीएम स्पीड-ट्रैक्ड और नियरबाय फीचर कस्टमर्स को इजाजत देता है कि वह इलाके में डिजिटल वॉलेट को स्वीकार करने वाले व्यापारियों का पता कर सके।

ग्राहकों और व्यापारियों को समान रूप से एक नकदी की कमी को देखते हुए पेटीएम के नियरबाय फीचर का मकसद एक डायरेक्ट्री बनाने का है, जिसमें 8 लाख मर्चेंट्स और पार्टनर्स पेटीएम प्लेटफॉर्म पर होंगे। पहले चरण में दो लाख मर्चेंट्स इसमें शामिल होंगे।

पेटीएम के सीनियर वाइस-प्रेसिडेंट दीपक अबोट ने बताया कि बीते पांच दिनों में हमारे व्यापार की ऑफलाइन हिस्सेदारी ऑनलाइन हिस्सेदारी से अधिक रही। डिजिटल पेमेंट फर्म ने हिंदी सहित 10 क्षेत्रीय भाषाओं में एप्लिकेशन को लॉन्च किया है। टियर टू और टियर थ्री शहरों से ट्रैफिक बढ़ रहा है।

Posted By: Shilpa Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस