नई दिल्ली। रिलायंस जियो इंफोकॉम ने जैसे ही 1 अप्रैल से 303 रुपये के मासिक शुल्क पर अनलिमिटेड वॉयस कॉलिंग और 28 जीबी डाटा का ऑफर पेश किया, वैसे ही एयरटेल, वोडाफोन और आइडिया जैसे अन्य टेलीकॉम कंपनियों की नींद उड़ गई। इंडस्ट्री के विशेषज्ञों के अनुसार, अब ये कंपनियां अपने प्रीमियम ग्राहकों को बचाने के लिए जल्द ही डाटा के दरों में भारी कटौती कर सकते हैं। एक अंग्रेजी अखबार ने विशेषज्ञों के हवाले से बताया है कि जियो अपने इस ऑफर से एयरटेल, आइडिया और वोडाफोन के उन ग्राहकों को अपनी ओर लाना चाहता है जिनसे उन्हें मोटी कमाई होती है। आंकड़ों के अनुसार, इनमें से पहले ही कई दूसरे सिम के तौर पर जियो का इस्तेमाल कर रहे हैं।

विशेषज्ञों के अनुसार, आने वाली तिमाहियों में मुनाफे में रहने के लिए इन तीनों कंपनियों को अपने ग्राहकों को जोड़े रखना होगा क्योंकि इनसे ही उन्हें 60 फीसदी से ज्यादा रेवन्यू मिलता है। ब्रोकरेज फर्म सैनफर्ड बर्नस्टेन के अनुसार, एयरटेल के पास देशभर में 4जी कवरेज है और उसने ही सबसे पहले भारत में यह सर्विस शुरू की थी। एयरटेल इस मार्केट का प्रीमियम प्लेयर है, इसलिए उसके ग्राहकों के साथ छोड़ने की आशंका कम ही है। हालांकि, आइडिया के पास दिल्ली में 4जी कवरेज नहीं है और मुंबई में उसके पास 4जी स्पेक्ट्रम कम हैं। इस कारण सबसे ज्यादा उसके ग्राहक जियो का हाथ थामेंगे। वोडाफोन की स्थिति इन दोनों के बीच की रहेगी।

अपने ग्राहकों को साथ बनाए रखने के लिए यदि जियो से मुकाबले में ये कंपनियां डाटा दरों में कमी करती हैं, तो उनके रेवन्यू में 40 से 50 फीसदी तक की कमी आ सकती है। विशेषज्ञों के अनुसार, आमतौर पर इन कंपनियों को प्रीमियम ग्राहकों से महीने में औसतन 700 से 1,000 रुपये का राजस्व मिलता है। यदि वो जियो के बराबर टैरिफ ऑफर करती हैं, तो इससे उनकी आमदनी में लघु अवधि के लिए भारी गिरावट आ सकती है।

यह भी पढ़े,

Samsung Carnival Sale: अमेजन पर सैमसंग दे रहा कई जबदस्त ऑफर्स, 5500 रुपये तक की मिलेगी छूट

साइबर अटैक से सुरक्षित रहने के लिए सरकार मुफ्त में उपलब्ध कराएगी ANTIVIRUS

वोडाफोन ने जियो के खिलाफ दायर की याचिका, नियम उल्लंघन का लगाया आरोप

Posted By: Shilpa Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस