मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

नई दिल्ली, टेक डेस्क। केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने भारत को टेलिकॉम इक्विपमेंट मैन्युफैक्चरिंग हब बनाने की अपील की है। India Mobile Congress (IMC) 2019 के कर्टेन रेजर कार्यक्रम के दौरान टेलिकॉम मिनिस्टर ने कहा कि भारत जल्द ही टेलिकॉम इंडस्ट्री के ग्लोबल पावर के तौर पर उभरने वाला है। उन्होंने टेलिकॉम इंटस्ट्रीज के लीडिंग इक्वीपमेंट मैन्युफैक्चरर्स समेत टेलिकॉम ऑपरेटर्स को कहा कि भारतीय पेटेंट वाली 5G टेक्नोलॉजी का विकास होना चाहिए। भारत इस समय डाटा एनलिसिस, डाटा इनोवेशन औऱ डाटा रिफाइनरी करने वाला देश बनकर उभरा है। जिसकी वजह से भारत में टेलिकॉम इक्विपमेंट मैन्युफैक्चरिंग की अपार संभावनाएं हैं।

केन्द्रीय मंत्री ने यह भी कहा कि भारत लो-कॉस्ट टेलिकॉम इक्विपमेंट मैन्युफैक्चरिंग का सेंटर बन सकता है। इसके लिए COAI (सैल्युलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया) तो इन कंपनियों के साथ पार्टनरशिप करनी चाहिए। आपको बता दें कि पिछले साल टेलिकॉम रेग्युलेटरी ऑथिरिटी ऑफ इंडिया (TRAI) ने दूरसंचार विभाग (DoT) को घरेलू टेलिकॉम इक्विपमेंट मैन्युफैक्चरिंग कंपनियों के लिए एक यूनिट बनाने की सलाह दी थी। TRAI ने टेलिकॉम रिसर्च और डेवलपमेंड फंड (TRDF) के लिए भी रेकोमेंडेशन दिया था जिसके लिए कॉर्पोरेट्स को Rs 1,000 करोड़ के इनिशियल फंड देने की बात कही गई थी। इस फंड का इस्तेमाल रिसर्च और डिजाइनिंग के लिए रिसर्च इनोवेशन और घरेलू टेलिकॉम इक्विपमेंट टेस्टिंग के लिए किए जाने की बात कही थी।

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि, मैं चाहता हूं कि टेलिकॉम सेक्टर को स्टार्ट-अप को ज्यादा से ज्यादा बढ़ावा मिले। मोबाइल सेक्टर इन स्टार्ट-अप्स के साथ मिलकर काम करे। केन्द्रीय मंत्री ने टेलिकॉम सेक्टर से इनोवेटिव 5G प्रोडक्ट्स को मोबाइल के साथ-साथ हेल्थकेयर, एग्रीकल्चर और अन्य सेक्टर के लिए भी इस्तेमाल करने की बात कही। डिजिटल डाटा जेनरेशन के बारे में बोलते हुए टेलिकॉम मिनिस्टर ने कहा कि भारत इस सेक्टर में अपनी महत्व दर्शा रहा है। सरकार जल्द ही डाटा प्रोटेक्शन लॉ लाने पर विचार कर रही है ताकि डाटा सोवर्जिनिटी बरकार रहे।

Indian Mobile Congress (IMC) 2019 का आयोजन इस साल 14 से 16 अक्टूबर के बीच दिल्ली में किया जाएगा। COAI और DoT की अगुवाई में इस साल इसका तीसरा संस्करण आयोजित किया जाएगा। टेलिकॉम सेक्रेटरी अरुणा सुंदराजन ने कहा कि इस साल पिछले साल के मुकाबले दोगुने आयोजक इस एक्जीबिशन में हिस्सा लेंगे। इस बार 40 से ज्यादा देशों की कंपनियां इसमें हिस्सा ले रही हैं। इसके साथ ही 300 से ज्यादा एग्जीबिटर्स और 250 से ज्यादा स्पीकर्स हिस्सा लेंगे।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Harshit Harsh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप