नई दिल्ली, सौरभ वर्मा. भारत टेक्नोलॉजी की राह पर तेजी से रफ्तार पकड़ रहा है। लेकिन इस रफ्तार की राह में साइबर अपराध एक बड़ी चुनौती के तौर पर उभरा है, जिससे देश को सालाना अरबों रुपये का नुकसान हो जाता है। भारत में साइबर अपराध बढ़ने की कई वजह हैं। साथ ही भारत ने सारबर अपराध को कम करने की दिशा में तमाम तरह के काम किये जा रहे हैं। हमने भारत की साइबर सिक्योरिटी को लेकर Europ Assistance India के सीईओ Ram Seethepalli से बातचीत की, जिन्होंने भारत में साइबर अपराध की दुनिया के बारे में विस्तार से बताया। इस इस बातचीत को विस्तार से जानते हैं।    

भारत में साइबर सुरक्षा की स्थिति के बार में बताएं? एक व्यक्ति और संगठनों को हर साल साइबर धोखाधड़ी के कारण कितना नुकसान होता है?

भारत में अभी लगभग 1.2 बिलियन मोबाइल अकाउंट हैं और आधे बिलियन से ज्यादा इंटरनेट यूजर्स हैं। 2018 में भारतीयों ने सामूहिक रूप से 12 बिलियन से ज्यादा मोबाइल ऐप डाउनलोड किए। भारत तेजी से डिजिटल भुगतान तकनीक की ओर बढ़ रहा है, जिसमें UPI और अन्य मोबाइल वॉलट यूजर्स की लाइफ अभिन्न भूमिका निभा रहे हैं। भारत उन शीर्ष देशों में भी शामिल है, जो सबसे ज्यादा साइबर-हमलों और साइबर-धोखाधड़ी के मामलों का सामना करता है। यह चलन महामारी और लॉकडाउन के दौरान बढ़ गया है, जब लोगों ने बड़ी संख्या में वर्चुअल और टचलेस भुगतान पेमेंट का उपयोग शुरू किया। भारत 2019 में अकेले चीन से दो लाख से अधिक साइबर हमले किये गए और यह आंकड़ा लॉकडाउन के पहले तीन महीनों के ही बढ़ गया।  2020 के पहले नौ माह में साइबर अपराध के से करीब 6 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर का अनुमानित नुकसान हुआ है, जबकि प्रति व्यक्ति औसत नुकसान 4,552 रुपये रहा। 

साइबर अपराधी तीन तरीकों से हमला करने और सूचना एकत्र करने की योजना बनाते हैं। 

  • प्राथमिक तकनीक कंपनियों के सर्वर स्तर पर हमलों की है। एक बार सर्वर स्तर के हमलों को अंजाम देने के बाद, अपराधी उस जानकारी को डार्क वेब पर बेचते हैं। कभी-कभी कई खातों के लिए एक ही पासवर्ड का उपयोग किया जाता है और इसलिए हैकर उसी व्यक्ति के अन्य खातों पर भी हमला कर सकता है। 
  • दूसरे प्रकार का हमला फ़िशिंग, मैलवेयर, रैनसमवेयर आदि के माध्यम से मोबाइल और लैपटॉप उपकरणों पर होता है । 
  • तीसरा तरीका घोटाले से संबंधित है। ये हमलावर विभिन्न बैंकों और वित्तीय संस्थानों से कॉल करने का नाटक करते हैं और ऑफ़र और छूट के बहाने उपभोक्ता को अपुष्ट जानकारी देते हैं, जिसके परिणामस्वरूप उन्हें अच्छा-खासा वित्तीय नुकसान हो सकता है।

साइबेरियर क्या है और इस समाधान को विकसित करने के पीछे क्या सोच थी?

यूरोप असिस्टेंस, साइबर सुरक्षा क्षेत्र की अग्रणी कंपनी है।  यह 25 से अधिक देशों में 165 मिलियन से अधिक व्यक्तियों की सुरक्षा करता है। साइबेरियर एक वन-स्टॉप समाधान है, जो किसी व्यक्ति की पहचान के कई पहलुओं को शामिल करता है। यह व्यक्तिगत जानकारी, उपभोक्ता के उपकरणों और उनके परिवारों के साथ-साथ एक व्यक्ति के क्रेडिट और वित्तीय विशेषताओं की सुरक्षा करता है। साइबेरियर का उद्देश्य "डिजिटल यू" की रक्षा के लिए व्यक्तियों के डिजिटल पदचिह्न को शिक्षित और संरक्षित करना है। "डिजिटल यू" दर्शन में व्यक्तिगत ईमेल आईडी, पासवर्ड, मोबाइल फोन नंबर, पता, पैन, आधार संख्या, क्रेडिट कार्ड नंबर, क्रेडिट प्रोफ़ाइल शामिल हैं। साइबेरियर की प्रमुख विशेषताओं में शामिल हैं:

  • किसी व्यक्ति की व्यक्तिगत जानकारी की सुरक्षा करना
  • उपकरणों की सुरक्षा (और आप उपकरणों पर क्या कर रहे हैं, जैसे कि बैंकिंग लेनदेन या फ़िशिंग लिंक, आदि)
  • वित्तीय प्रोफ़ाइल और वित्तीय क्षमताओं की निगरानी करना और किसी भी नुकसान को कवर करने के लिए बीमा प्रदान करना और 24/7 साइबर सुरक्षा  विशेषज्ञों की मदद से समस्याओं का समाधान

किसी भी अवांछित या संदिग्ध गतिविधि के लिए रिअल टाइम में डिजिटल खाते की निगरानी के माध्यम से साइबेरियर अपने ग्राहकों की मदद करता है। यह विभिन्न प्रकार के घोटालों (बैंकिंग / ऋण धोखाधड़ी, भुगतान धोखाधड़ी, आधार धोखाधड़ी, और अन्य पहचान की चोरी) के जोखिम को कम करने और उन्हें जल्दी से हल करने के दौरान आपके क्रेडिट स्कोर को भी ट्रैक करता है। इसके अतिरिक्त, साइबेरियर डेटा  को होने वाले नुकसान को भी रोकता है। साइबर सुरक्षा किसी व्यक्ति के उपकरणों पर डेटा पर मंडराने वाले खतरों को रोकता है और पूरे विश्वास के साथ और फ़िशिंग, रैनसमवेयर इत्यादि की चिंता किए बिना बैंकिंग लेन-देन  में मदद करता है।

भारतीय बाजारों के लिए साइबेरियर की बाजार रणनीति क्या है ?

साइबेरियर एक बी2बी2सी (बिजनेस टू बिजनेस टू कंज्यूमर) मॉडल पर काम करता है और उपभोक्ता साइबरेरियर की वेबसाइट से समाधान का लाभ उठा सकते हैं। विश्व स्तर पर साइबेरियर ने बैंकों, क्रेडिट कार्ड कंपनियों, बीमा कंपनियों, ऑटोमोटिव निर्माताओं, एयरलाइंस और साथ ही ट्रैवल कंपनियों जैसे  क्षेत्रों के साथ संपर्क के माध्यम से ग्राहकों की जरूरतों को पूरा किया है। बदले में ये कंपनियां अपने अंतिम उपभोक्ताओं और कर्मचारियों को विभेदित और मूल्य वर्धित सेवाएं प्रदान करते हैं। हम भारत में भी बाजार के इन्हीं क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित करने की उम्मीद करते हैं। भारत में जनसांख्यिकी और कुछ शक्तिशाली व्यवहार परिवर्तन को देखते हुए व्यक्तिगत साइबर सुरक्षा समाधानों की आवश्यकता और अवसर मौजूद हैं। साइबेरियर के शोध से पता चलता है कि व्यक्ति ऐसे समाधान चाहते हैं जो स्रोत की रक्षा करें और  एक अनुमान के अनुसार अगले 5 वर्षों में साइबर जियो के 8-10 मिलियन उपयोगकर्ता होंगे।

ऐसे समाधान से अंतिम यूजर्स आखिर कैसे लाभान्वित हो सकता है? आप भारत में वर्तमान में मौजूद अन्य साइबर सुरक्षा समाधान प्रदाता से साइबेरियर को अलग कैसे करते हैं?

अंतिम यूजर्स के दृष्टिकोण से यह समझना महत्वपूर्ण है कि प्रत्येक व्यक्ति के पास आईपी पता, पासवर्ड, क्रेडिट कार्ड नंबर, आवासीय पता, मोबाइल नंबर, वैवाहिक स्थिति, पैन कार्ड, आधार कार्ड, आदि सहित अपनी सभी जानकारी के साथ स्वयं का एक डिजिटल संस्करण होता है। अगर कोई साइबर अपराधी इस जानकारी को हथियाना चाहे, तो इसके लिए वह एक नकली डिजिटल संस्करण बना सकता है और इससे काफी नुकसान भी पहुँचा सकता है। इसलिए, किसी व्यक्ति के डिजिटल संस्करण की सुरक्षा बहुत महत्वपूर्ण है। इसके अतिरिक्त, अंतिम उपयोगकर्ता केवल अपने बारे में चिंतित नहीं हैं, बल्कि वे अपने परिवार की सुरक्षा के बारे में भी चिंता करते हैं। साइबेरियर ने इस पहलू को अच्छी तरह से कवर किया है।

साइबेरियर प्रत्येक व्यक्ति के डिजिटल संस्करण की सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। यह व्यक्तिगत डेटा और किसी व्यक्ति के उपकरणों को सुरक्षित करने के लिए ही निर्मित किया गया है और यह  परिवार के सदस्यों को भी लाभान्वित करता है। यह समाधान मैलवेयर, रैनसमवेयर, फ़िशिंग, साइबर धोखाधड़ी, क्रेडिट रक्षा इत्यादि की सुरक्षा पहुँचाता है। धोखाधड़ी की गतिविधि का पता लगाने के अलावा, साइबर के पास रिज़ॉल्यूशन क्षमता भी होती है, जिसमें रिज़ॉल्यूशन विशेषज्ञ होते हैं जो धोखाधड़ी के मामलों को सुलझाने के लिए हाथों-हाथ और चरणबद्ध समाधान प्रदान करते हैं। साइबेरियर आरबीआई के डेटा स्थानीकरण और भारत के सुरक्षा कानूनों का भी अनुपालन करता है। हालाँकि अन्य कंपनियाँ कुछ लाभ प्रदान करती हैं, लेकिन साइबेरियर एकमात्र कंपनी है जो व्यक्ति की डिजिटल पहचान को सुरक्षित करने के लिए एक एकीकृत पैकेज प्रदान करती है। विश्व स्तर पर 25 से अधिक देशों में 165 मिलियन से अधिक व्यक्तियों द्वारा इस सेवा का उपयोग किया जा रहा है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस