नई दिल्ली। आखिरकार इतने दिनों से जिस बात का डर था वही हुआ, चीन में अंतत: गूगल ने अपने कार्यालय बंद कर दिए हैं। पिछले काफी समय से चीन में बढ़ते हुए साइबर हमलों को देखते हुए इंटरनेट सुरक्षा को बेहतर बनाने के लिए कई कड़े कदम उठाए गए और इससे सबसे बड़े सर्च इंजन गूगल को वहां अपना बिजनेस चलाने में कठिनाई महसूस हुई और अपना कारोबार बंद करने का निर्णय ले लिया।

चीन द्वारा सुरक्षा कारणों के चलते विभिन्न इंटरनेट सुविधाओं पर जिस तरह से रोक लगाई जा रही है उसके बाद गूगल व कंपनी के अन्य ग्राहकों के लिए भी इस देश में व्यापार करना असंभव हो गया था। केवल अमेरिका की गूगल कंपनी ही नहीं बल्कि कोरिया की दो इंस्टेंट मैसेजिंग एप्स 'लाईन' व 'काकाओ टॉक' पर भी प्रतिबंध लगाया गया था।

हाल ही में चीन ने फिल्टर्स की व्यवस्था कि और 'चाइना ग्रेट फायरवाल' की शुरुआत की। इससे सोशल नेटवर्किंग साइट्स जैसे फेसबुक और ट्विटर आदि पर नियंत्रण पाया जा सके और देश के बाहर जाने और आने वाले इंटरनेट ट्रैफिक पर कंट्रोल किया जा सके।

इन सब बातों की वजह से केवल गूगल ही नहीं बल्कि और भी कई देशों की इंटरनेट कंपनियां जो कि चीन में सालों से व्यापार चला रही हैं उनके लिए यहां काम करना मुश्किल हो गया है। सूचना के अनुसार यह कहा जा रहा है कि यदि आप चीन में किसी सर्च इंजन पर किसी भी विषय पर कुछ खोज रहे हैं तो आपको दिक्कत होगी। इसका कारण है चीनी सरकार द्वारा इंटरनेट पर कितनी ही अन्य भाषाओं की वेबसाइट पर प्रतिबंध लगाना।

यह सभी दिक्कतें केवल तब नहीं आती जब आपको इंटरनेट पर कुछ खोजना हो बल्कि यदि आपको एक ई-मेल भी करना है तो आपको इस मुश्किल का सामना करना होगा। कुछ लोगों का कहना है कि कार्यालय में काम करने पर इतना समय खर्च नहीं होता जितना कि एक ई-मेल भेजने की चर्चा पर होता है। चीन द्वारा विभिन्न इंटरनेट वेबसाइटों पर अनगिनत तरीकों से लगाए गए यह प्रतिबंध आपको आसानी से काम नहीं करने देते हैं।

चीन में साइबर हमलों को रोकने के लिए काम तो काफी समय से चल रहा था लेकिन इससे संबंधित सबसे बड़ा कदम 29 मई को उठाया गया। इस दिन चीनी सरकार द्वारा बिना कोई निर्देश दिए गूगल की सारी वेबसाइट बंद कर दी गईं थी। विशेषज्ञों का कहना है कि पहले उन्हें यह बात चीन द्वारा लिए गए वाले सुरक्षा कारणों का मुद्दा लगा जो कि कुछ ही समय के लिए मान्य होगा, लेकिन बाद में यह प्रतिबंध हटाया ही नहीं गया।

फिलहाल चीनी अधिकारियों द्वारा गूगल की कुछ वेबसाइट को खोला तो जाता है लेकिन काफी सीमित समय के लिए। इसके अलावा कई बार यह वेबसाइट घंटों के लिए भी खोली जाती हैं पर ऐसा महीने में एक ही बार होता है।

इस सबके चलते गूगल का चीन में व्यापार दिन प्रतिदिन नष्ट होता जा रहा है। पर फिलहाल वहां आंशिक रूप से गूगल का सर्च इंजन व गूगल प्ले स्टोर उपलब्ध कराई जा रही है।

पढ़ें: गूगल के एंड्रायड वन से लैस तीन नए स्मार्टफोन

पढ़ें: क्या है एंड्रायड वन और कितना अलग है यह एंड्रायड फोन से!

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस