नई दिल्ली, टेक डेस्क। डिजिटल पेमेंट ऐप MobiKwik को Google Play store से हटा दिया गया है और इसके पीछे मुख्य वजह ऐप स्टोर की ऐड पोलिसी का उल्लंघन करना है। जबकि MobiKwik के सीईओ बिपिन प्रीत सिंह के मुताबिक इसे प्ले स्टोर से इसलिए हटाया गया है क्योंकि इसमें Aarogya Setu ऐप लिंक है। बिपिन प्रीत का कहना है कि MobiKwik को Aarogya Setu को बढ़ावा देने के लिए एक सप्ताह पहले Google से चेतावनी मिली थी, लेकिन तब उन्होंने कहा कि यह एक गलती थी। हालांकि, इसके बाद ऐप को Google Play से हटा दिया गया था।

MobiKwik के सीईओ बिपिन प्रीत सिंह ने अपने ट्विटर अकाउंट पर एक पोस्ट के जरिए जानकारी शेयर करते हुए बताया है कि 'हमारे ऐप को Google Play store से हटा दिया गया है। Google ने ऐसा ​इसलिए किया है क्योंकि हमारे ऐप में कोरोना वायरस संक्रमण की जानकारी देने वाला Aarogya Setu ऐप लिंक है। ऐसा करने के लिए हमें नियामकों द्वारा कहा गया था और इसे सार्वजनिक स्वास्थ्य हित में समझें।'

हालांकि अब Google Play store पर MobiKwik को फिर से रिस्टोर कर दिया गया है और यूजर्स इसे डाउनलोड कर आसानी से इस्तेमाल कर सकते हैं। बता दें कि Singh ने अपने ​ट्वीट में जानकारी दी थी कि फिनटेक फर्मों को भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा आरोग्य सेतु का लिंक शामिल करने के लिए कहा गया, जो कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग एप्लिकेशन को इंस्टॉल करने के लिए एक बहुत ही जरूरी कदम भी है। इस ऐप को 10 करोड़ से अधिक बार डाउनलोड किया गया है। आप देख सकते हैं कि पेटीएम जैसे अन्य ऐप में एंड्रॉइड और आईओएस दोनों प्लेटफॉर्म पर Aarogya Setu के लिंक भी शामिल हैं।  बता दें कि MobiKwik ऐप के जरिए आप पेमेंट करने के अलावा कई ए​सेंशियल सर्विसेज का भी लाभ उठा सकते हैं। इसमें ग्रोसरी, हेल्थ केयर, डेयरी प्रोडक्ट्स जैसी कई सुविधाएं शामिल हैं। 

Posted By: Renu Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस