नई दिल्ली, टेक डेस्क। बुरे दौर से गुजर रहे पब्लिक सेक्टर की टेलिकॉम कंपनी भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) के 1,000 से ज्यादा मोबाइल टावर्स और 500 से ज्यादा टेलिफोन एक्सचेंज बिजली के बिल के भुगतान नहीं होने की वजह से ठप हो गए हैं। इस बात की जानकारी दूरसंचार मंत्री रविशंकर प्रसाद ने दी है। केन्द्रीय मंत्री ने लोकसभा में इस बात की जानकारी दी है कि बीएसएनएल (BSNL) और एमटीएनएल (MTNL) को फिर से ट्रैक पर वापस लाने के लिए मंत्रालय और दूरसंचार विभाग एक कम्प्रिहेंसिव रिवाइवल प्लान तैयार कर रहे हैं।

केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि इसके लिए दूरसंचार विभाग (DoT) इन दोनों टेलिकॉम कंपनियों BSNL और MTNL के लिए एक रिवाइवल प्लान इनिशिएट किया है। रविशंकर प्रसाद ने BSNL के नॉन फंक्शनल मोबाइल टावर्स के बारे में कहा कि इस समय 1,083 मोबाइल टावर्स और 524 टेलिकॉम एक्सचेंज देश भर में काम नहीं कर रहे हैं। लोकसभा में उठाए गए सवाल के जबाब में केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि इन ठप पड़े मोबाइल टावर्स में से 258 मोबाइल टावर्स ऐसे हैं जो लैंड ओनर्स के ड्यूज की वजह से ठप हैं। रविशंकर प्रसाद ने यह भी कहा है कि BSNL ने इसके लिए लैंड ओनर्स को सूचित कर दिया है कि भुगतान तय समय पर कर दिया जाएगा।

आपको बता दें कि BSNL का मार्केट शेयर 2017 से लेकर 2019 के बीच बढ़ा है जबकि MTNL का मार्केट शेयर गिरा है। 2018-19 के वित्त वर्ष में BSNL के साथ करीब 53.64 लाख यूजर्स पोर्ट करा कर जुड़े हैं जबकि करीब 28.27 लाख यूजर्स ने पोर्ट आउट कराया है। वहीं, MTNL के नेटवर्क के साथ करीब 10,195 यूजर्स जुड़े हैं जबकि करीब 1.35 लाख यूजर्स ने पोर्ट आउट कराया है। केन्द्रीय मंत्री ने यह भी कहा है कि वर्ष 2009-10 से ही ये दोनों पब्लिक सेक्टर की कंपनियां लगातार घाटे में जा रही है।

ये है सरकार का प्लान

केन्द्रीय दूरसंचार मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया कि BSNL और MTNL को फिर से ट्रैक पर लाने के लिए IIM अहमदाबाद, डेलाइट की सहयोग से उबारने या उसके पुनर्गठन की योजना पर काम किया जा रहा है। इन संस्थानों को सुझावों और उनके बोर्ड द्वारा पास किए प्लान के हिसाब से इन कंपनियों को इस परिस्तिथि से उबारने के लिए व्यापक प्लान तैयार किया जाएगा। इस समय कई टेलिकॉम कंपनियां घाटे में चल रही हैं। सरकार इन कंपनियों को आर्थिक तंगी से उबारने के लिए दूरसंचार विभाग (DoT) से संपर्क किया था। 

Posted By: Harshit Harsh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप