नई दिल्ली, टेक डेस्क। Google और Apple के वॉयस असिस्टेंट यूजर्स की आवाज को फॉलो करते हैं। यूजर्स को जो बोलते हैं अस्सिटेंट उन्हें उनका जवाब दे देता है। हालांकि, ये आपकी भावनाओं को नहीं समझ सकते हैं क्योंकि इनमें इमोशन्स समझने की क्षमता नहीं होती है। लेकिन जल्द ही Apple का अस्सिटेंट Siri आपके चेहरे के हाव-भाव को पढ़ पाएगा और आपकी भावनाएं समझ पाएगा।

Apple कंपनी Siri को को और बेहतर बनाने पर काम कर रहा है। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से किसी भी यूजर का कोई भी बेहद आसान हो जाता है। अब कंपनी यूजर्स के इमोशन्स को भी इससे जोड़ देगी जिससे यूजर्स को बेहतर एक्सपीरियंस मिल पाए। इसके लिए कंपनी ने नया पेटेंट भी फाइल किया है। AI वॉयस असिस्टेंट Siri का नया वर्जन यूजर्स के चेहरे को पढ़कर उनके चेहरे के हाव-भाव और इमोशन्स को पहचान पाएगा।

जैसे ही यूजर्स Siri को कमांड देंगे तो वो उनके हाव-भाव को समझने की कोशिस करेगा और यूजर की पूरी मदद करेगा। कंपनी का मानना है कि फेशियल एक्सप्रेशन एनालिसिस यूजर की तरफ से दिए गए सभी वॉयस कमांड्स को समझने के लिए मददगार साबित होगा। वर्तमान की बात करें तो अभी Siri यूजर के कमांड्स के पीछे छिपे इमोशन्स को समझ नहीं पाता है।

Apple ने कहा है कि कई बार ऐसा होता है जिसमें इंटेलिजेंट सॉफ्टवेयर यूजर के एक्शन्स को नहीं समझ पाता है। नए Siri में एक अन्य वेरिफिकेशन लेयर जोड़ी जाएगी जिसकी मदद से यूजर की रिक्वेस्ट को समझ पाना आसान होगा। उदाहरण के तौर पर अगर किसी स्थिति में Siri के लिए केवल वॉयस कमांड के आधार पर जवाब देना मुश्किल होगा तो वो फेस को भी पढ़ेगा और यूजर के एक्सप्रेशन्स को समझने की कोशिश करेगा। कंपनी द्वारा पेश किए गए पेटेंट के मुताबिक, माइक्रोफोन, ऑडियो इनपुट, कैमरा और इमेज के जरिए यूजर के एक्सप्रेशन को समझने में मिलेगी। इसके लिए कंपनी फेशियल एक्शन कोडिंग सिस्टम में कुछ खास स्थितियों के लिए डाटा की रेंड फीड करेगी।

 

Posted By: Shilpa Srivastava

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप