नई दिल्ली, पीटीआइ। सेल्यूलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया यानी COAI ने यूजर्स से आग्रह किया है कि वो अब मोबाइल डाटा का सोच-समझकर इस्तेमाल करें जिससे आवश्यक सर्विसेज का इस्तेमाल बिना किसी परेशानी के किया जा सके। भारत में डाटा यूसेज के आंकड़े में 30 फीसद का उछाल आया है। ऐसा इसलिए क्योंकि Coronavirus के चलते देश में हुए लॉकडाउन के कारण ज्यादातर लोग वर्क फ्रॉम होम कर रहे हैं जिससे डाटा खपत में बढ़ोत्तरी हुई है।

COAI के डायरेक्टर जनरल राजन मैथ्यूज ने कहा, “हम लोगों से नेटवर्क का जिम्मेदारी के तौर पर इस्तेमाल करने के लिए कह रहे हैं। इंटरनेट और नेटवर्क का गैर जरूरी इस्तेमाल न करते हुए उसे रिमोट वर्किंग, ऑनलाइन शिक्षा, डिजिटल स्वास्थ्य सेवा, भुगतान और अन्य महत्वपूर्ण सर्विसेज के लिए बचाएं जिससे इंटरनेट और नेटवर्क सुचारू रूप से काम कर सके।”

मैथ्यूज ने यह भी सुझाया कि लोग अपनी ऑनलाइन एक्टिविटीज को पीक टाइम यानी वर्किंग आवर्स में न कर सुबह या देर शाम को कर सकते हैं। इससे जो लोग वर्क फ्रॉम होम कर रहे हैं उन्हें भी स्लो इंटरनेट की दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ेगा। मैथ्यूज ने बताया कि लॉकडाउन के चलते सोशल डिस्टेंसिंग के आधार पर पिछले कुछ दिनों में डाटा की डिमांड 20 से 30 फीसद बढ़ गई है।

वहीं, इससे पहले Sony, Google, Facebook, Viacom18, MX Player, Hotstar, Zee, Tiktok, Netflix और Amazon Prime Video ने 14 अप्रैल तक स्टेंडर्ड डिफिनेशन (SD) कंटेंट उपलब्ध कराने की बात कही है। इससे सेल्युलर नेटवर्क्स या मोबाइल नेटवर्क पर लोड कम हो जाएगा। उपरोक्त सभी कंपनियों ने एक ज्वाइंट स्टेटमेंट जारी किया है। इसमें कहा गया है कि राष्ट्रीय उपभोक्ता के हित को ध्यान में रखते हुए तत्काल प्रभाव से यह फैसला लिया जा रहा है। लॉकडाउन के 21 दिनों के दौरान यूजर्स को मोबाइल नेटवर्क के जरिए केवल SD क्वालिटी पर 480p रिजोल्यूशन की वीडियो स्ट्रीमिंग की सुविधा मिलेगी। यहां पढ़ें पूरी खबर

 

Posted By: Shilpa Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस