नई दिल्ली, टेक डेस्क। कोविड-19 के चलते हुए लॉकडाउन के कारण कई महीनों तक नए स्मार्टफोन लॉन्च नहीं किए गए और टेक इंडस्ट्री में कोई हलचल नजर नहीं आई। लेकिन अब स्मार्टफोन इंडस्ट्री में फिर से रौनक लौट आई ​है और आए दिन नए डिवाइसेज व स्मार्टफोन बाजार में दस्तक दे रहे हैं। लेकिन वाबजूद इसके यूजर्स का एक तबका ऐसा भी है जो कि प्रीमियम स्मार्टफोन को बजट में होने के कारण सेकेंड खरीदने में यकीन रखता है। ऐसे ही यूजर्स के लिए रीफर्बिश्ड स्मार्टफोन यानि इस्तेमाल किए गए स्मार्टफोन का ट्रेंड बढ़ता जा रहा है। क्योंकि अब अधिकतर काम स्मार्टफोन से ही हो रहे हैं। चाहें वो बच्चों की पढ़ाई हो या फिर आपके ऑफिस की मीटिंग। ऐसे में बच्चे पूरे दिन पेरेंट्स के फोन का उपयोग नहीं कर सकते और उनके लिए एक फोन जरूरी हो गया है। लेकिन बच्चों के लिए आपको नया स्मार्टफोन खरीदने की जरूरत नहीं है, बल्कि आप कम कीमत में सेकेंड हैंड फोन खरीद सकते हैं। सेकेंड स्मार्टफोन या रीफर्बिश्ड स्मार्टफोन आपको ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर आसानी से मिल जाएंगे। लेकिन इसे खरीदते समय आपको कुछ सावधानियां बरतनी होंगी। 

सेकेंड हैंड या ​रीफर्बिश्ड स्मार्टफोन खरीदते समय ध्यान रखें ये बातें

फ्रॉड से बचें

ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर आजकल रीफर्बिश्ड स्मार्टफोन काफी चलन में हैं। कई बड़ी व लोकप्रिय वेसबाइट्स यूजर्स के लिए यह सुविधा उपलब्ध करा रही हैं। लेकिन बहुत सी ऐसी वेबसाइट्स भी हैं जो कि मार्केट रेट से काफी कीमत में आपको पुराना स्मार्टफोन बेच रही हैं। ऐसे में आपको इस बात पर खास ध्यान देना होगा कि आप जिस वेबसाइट से सेकेंड हैंड फोन खरीद रहे हैं वो फ्रॉड तो नहीं। वहीं अगर आप किस सोशल मीडिया के जरिए सेकेंड हैंड फोन खरीद रहे हैं तो कोशिश करें कि पेमेंट करने से पहले उस व्यक्ति से आमने-सामने मिल लें और उनका एड्रेस भी मंगा लें। सिक्योरिटी के लिहाज से भी यह काफी जरूरी है। 

खरीदने से पहले 15 मिनट तक फोन का उपयोग करें

यह पढ़कर आपको थोड़ा अजीब लग रहा होगा, लेकिन सेकेंड हैंड फोन खरीदने से पहले ये बेहद जरूरी बात है जो आपको ध्यान में रखनी होगी। क्योंकि अक्सर फोन खरीदते समय आप उसे ऑन या ऑफ करके चेक करते हैं तो वह सही चलता है लेकिन घर जाते ही इसमें कोई फीचर काम नहीं करता। ऐसे में सेकेंड हैंड फोन खरीदने से पहले उसे कम से कम 15 मिनट तक उपयोग करें और उसके प्रत्येक फीचर को चेक करें। इससे आपको फोन की प्रोसेसिंग क्षमता, हैंगिंग की समस्या और हीटिंग जैसी परेशानियों के बारे में पता चल जाएगा। 

लुक्स के साथ पोर्ट्स को करें चेक

सेकेंड हैंड स्मार्टफोन खरीदने से पहले केवल लुक पर ध्यान न दें, बल्कि​ फोन की पूरी बॉडी को ठीक से चेक करें कि वो कहीं से डेमेज तो नहीं है। साथ ही फोन में दिए गए सभी पोर्ट्स को ठीक से चेक कर लें कि इसका माइक, स्पीकर और कैमरा लेंस आदि ठीक से काम कर रहे हैं या नहीं। 

बिल और IMEI नंबर देखना न भूलें

यह ध्यान रखें तो अगर आप सेकेंड हैंड स्मार्टफोन खरीद रहे हैं तो उसका इनवॉयस बिल जरूर चेक करें। क्योंकि फोन बेचने वाला व्यक्ति यह भी कह सकता है कि बिल खो गया है तो ऐसी बातों में अगर आप गलत फोन के चक्कर में पड़ जाए। इसलिए जरूरी है कि फोन के बिल और उसमें दी गई डेट पर ठीक से नजर डालें। इसके अलावा IMEI नंबर भी चेक करना जरूरी है। यह देख लें कि बिल पर दिया गया IMEI नंबर और फोन को IMEI नंबर एक समान हो। इसे आप फोन पर *#06# डायल करके चेक कर सकते हैं। 

ऑनलाइन पेमेंट से बचें

कई बार ऑनलाइन पेमेंट से भी फ्रॉड हो जाता है और अगर आप सेकेंड हैंड स्मार्टफोन खरीद रहे हैं तो ​जाहिर सी बात है कि आपको उस व्यक्ति के बारे में अधिक जानकारी नहीं होगी। ऐसे में कोशिश करें पेमेंट कैश ही करें क्योंकि किसी अनजान व्यक्ति को ऑनलाइन पेमेंट सिक्योरिटी के लिहाज से भी सही नहीं हैं। 

Posted By: Renu Yadav

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस