नई दिल्ली, टेक डेस्क। स्मार्टफोन एक ऐसा डिवाइस है, जिसने हमारी जिन्दगी में अहम जगह बना ली है। हम इस डिवाइस का इस्तेमाल ऑफिस के काम से लेकर मनोरंजन तक के लिए करते हैं। कई बार हम स्मार्टफोन उपयोग करते समय कुछ ऐसी गलती कर बैठते हैं, जिससे स्मार्टफोन की बैटरी और प्रोसेसर की स्पीड प्रभावित होती है। साथ ही मोबाइल के खराब होने या ब्लास्ट होने की संभावना भी बढ़ जाती है। तो आज हम आपको इस खबर में उन गलतियों के बारें में बताएंगे, जो हम अक्सर डिवाइस इस्तेमाल करने के दौरान करते हैं। आइए जानते हैं...

मोबाइल को जरूरत से ज्यादा चार्ज करना

ज्यादातर लोग 50-60 प्रतिशत बैटरी होने पर भी मोबाइल को चार्ज करने लगते हैं। ऐसा नहीं करना चाहिए, क्योंकि इससे बैटरी पर दबाव पड़ता है और बैटरी खराब या ब्लास्ट होने की संभावना बड़ जाती है। हमेशा ध्यान रखें कि जब मोबाइल की बैटरी 20 प्रतिशत या इससे कम हो, तो तभी फोन को चार्ज करें। इससे बैटरी को जरा-सा भी नुकसान नहीं पहुंचता है।

वाइब्रेशन मोड का अधिक उपयोग करना

ज्यादातर लोग फोन को हमेशा वाइब्रेट मोड पर रखते हैं। अगर आप भी ऐसा करते हैं, तो तुरंत बंद कर दें। क्योंकि इससे फोन की बैटरी जल्दी खत्म होती है। साथ ही डिवाइस की बैटरी लाइफ भी कम हो जाती है। हमेशा ध्यान रखें कि जब वाइब्रेशन मोड की जरूरत हो, तो तभी इसका उपयोग करें।

ऑटो-ब्राइटनेस मोड का इस्तेमाल न करना

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि स्क्रीन ऑन टाइम जितना ज्यादा होगा, उतनी ही बैटरी की खपत होगी। आप फोन की बैटरी को बचाने के लिए ब्राइटनेस को कम कर सकते हैं। इसके अलावा आप ऑटो-ब्राइटनेस मोड का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इस फीचर की खासियत है कि यह स्क्रीन की ब्राइटनेस को रौशनी के हिसाब से एडजेस्ट करता है। इससे बैटरी की खपत कम होती है।

काम खत्म होने के बाद वाई-फाई और जीपीएस बंद न करना

हम सभी अपने मोबाइल में वाई-फाई, जीपीएस और ब्लूटूथ जैसे कनेक्टिविटी फीचर्स का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन काम खत्म होने के बाद हम इस फीचर को बंद करना भूल जाते हैं। इसकी वजह से बैटरी की खपत बढ़ जाती है। तो हमेशा काम खत्म होने के बाद वाई-फाई, जीपीएस और ब्लूटूथ को बंद कर दें। इससे फोन के प्रोसेसर की स्पीड भी बढ़ जाती है।

Edited By: Ajay Verma