नई दिल्ली, टेक डेस्क। सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट Facebook ने उस व्यक्ति का अकाउंट बंद कर दिया है जिसने CAA बिल के विरोध में जामिया मिलिया इस्लामिया में हो रहे प्रदर्शन के दौरान फायरिंग की थी। यह व्यक्ति Facebook पर प्रदर्शनकारियों पर अटैक करने से पहले लाइव स्ट्रीमिंग करता था। इसके अलावा इसने Facebook पर कुछ स्टेटस भी अपडेट किए थे जिसमें प्रदर्शन का विरोध किया गया है।

Facebook पर नहीं है हिंसा की जगह: Facebook ने कहा है कि उसके प्लेटफॉर्म पर हिंसा की कोई जगह नहीं है। उन्होंने इस व्यक्ति का Facebook अकाउंट रिमूव कर दिया है। साथ ही ऐसे कंटेंट को भी रीमूव कर दिया है जिसमें इस व्यक्ति को सपोर्ट किया गया है या फिर सरहाना की गई है। कुछ शुरुआती रिपोर्ट्स में यह दावा किया गया है कि इस व्यक्ति ने शूटिंग से पहले Facebook लाइव किया था।

कंपनी की है संगठन नीति: Facebook की अपनी एक संगठन नीति है जिसका उद्देश्य अपने प्लेटफॉर्म पर शूटिंग की प्रशंसा, समर्थन या प्रतिनिधित्व करना बिल्कुल नहीं है। कंपनी का दावा है कि ज्यादातर मुख्य भाषाओं में यूजर्स की रिपोर्ट की समीक्षा करने के लिए 15,000 समीक्षकों की एक वैश्विक टीम मौजूद है।

पहले भी लाइव स्ट्रीमिंग का हो चुका है गलत इस्तेमाल: पिछले वर्ष ही Facebook का इस्तेमाल न्यूजीलैंड में क्राइस्टचर्च नरसंहार की लाइव स्ट्रीमिंग के लिए किया गया था जिसमें कम से कम 51 लोगों की जान ली गई थी। कंपनी ने अपनी लाइव स्ट्रीमिंग सुविधा को प्रतिबंधित कर दिया था और Facebook लाइव के इस्तेमाल के लिए वन-स्ट्राइक नीति की घोषणा की थी। 

इससे पहले Facebok ने कई सरकार समर्थित अकाउंट बंद कर दिए थे। आपको बता दें कि अमेरिकी सरकारी संस्थानों के एक से ज्यादा सोशल मीडिया अकाउंट्स को ब्लॉक किया गया था। इसी वजह यह थी कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के फेवर में इन अकाउंट्स से मैनुप्लेटिव ऑपरेशन्स किए गए थे। यहां पढ़ें पूरी खबर

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस