नई दिल्ली, टेक डेस्क। सोशल मीडिया प्लेफार्म पर कोरोनावायरस से जुड़ी अफवाहों और फर्जी जानकारियों को लेकर IT मंत्रालय सख्त हो गई है। महामारी का रूप ले चुके इस वायरस से जुड़ी सभी गलत जानकारियों और अफवाहों को हटाने के लिए मंत्रालय ने सभी सोशल मीडिया कंपनियों को निर्देश जारी किए हैं। सोशल मीडिया कंपनियों Facebook, Twitter, TikTok आदि से मंत्रालय ने तुरंत प्रभाव से इन अफवाहों को हटाने का आदेश दिया है। बीते 20 मार्च को मंत्रालय ने सोशल मीडिया कंपनियों को कोरोनावायरस (COVID-19) से जुड़ी किसी भी गलत जानकारियों को पोस्ट न करने का निर्देश जारी किया था। मंत्रालय ने कहा था कि इसकी वजह से आम लोगों में डर का माहौल पैदा हो सकता है।

PTI की रिपोर्ट के मुताबिक, मंत्रालय की तरफ से साइबर लॉ और ई-सिक्युरिटी ग्रुप को-ऑर्डिनेटर राकेश महेश्वरी ने एडवाइजरी में कहा, “बिचौलियों से आग्रह किया जाता है कि वे अपने मंच पर होस्ट की गई ऐसी (झूठी समाचार) सामग्री को प्राथमिकता के आधार पर निष्क्रिय या हटाने के लिए तत्काल कार्रवाई करें।” इस एडवाजरी में ये भी कहा गया है की कोरोनावायरस वैश्विक समस्या है और विश्व स्वास्थ संगठन ने इसे ग्लोबल हेल्थ इमरजेंसी करार दिया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस समय सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर कोरोनावायरस से जुड़ी कई गलत जानकारियां उपलब्ध हैं। जिसकी वजह से लोगों के बीच में भय का माहौल पैदा हो रहा है। मंत्रालय ने अपने एडवाजरी में कहा कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर कैंपेन के जरिए यूजर्स को आगाह करना चाहिए कि कोरोनावायरस से जुड़ी किसी भी तरह की गलत जानकारी और फर्जी न्यूज अपलोड नहीं की जाएग। इसके लिए सोशल मीडिया कंपनियों को निर्देश जारी किया गया है कि वो प्लेटफॉर्म पर मौजूद कोरोनावायरस के जुड़े सभी जानकारियों की सत्यता को जांचें।

इस समय दुनियाभर में 2.5 लाख से ज्यादा लोग इस महामारी से प्रभावित हैं। भारत में 300 से ज्यादा लोग इस महामारी से प्रभावित हैं, जिनमें 6 लोगों की मौत हो चुकी हैं। दुनियाभर में कुल 13,000 से ज्यादा लोग इस खतरनाक वायरस की वजह से काल के ग्रास में समा चुके हैं। 

Posted By: Harshit Harsh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस