नई दिल्ली (टेक न्यूज)। अब आप बड़ी आसानी से अपने इंस्टाग्राम स्टोरी में म्यूजिक को जोड़ सकते हैं। इंस्टाग्राम ने पिछले हफ्ते यह फीचर अपने यूजर्स के लिए शुरू कर दिया है। फेसबुक ने हाल ही में रिकॉर्ड लेबल की संख्या के साथ एक सौदा किया है, जिसका मतलब है कि ये ट्यून्स अब इंस्टाग्राम के लिए भी उपलब्ध होंगे। यह फीचर फिलहाल ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, फ्रांस, जर्मनी, स्वीडन, यूनाइटेड किंगडम और यूनाइटेड स्टेट्स के लिए है और यह ठीक उसी तरह से काम करता है जैसे की स्टिकर्स और जीआईएफ का इस्तेमाल इंस्टाग्राम पर होता है।

ऐड कर सकते हैं पसंद का म्यूजिक

खासतौर पर, अपने इंस्टाग्राम स्टोरी के लिए कोई तस्वीर लेने या फिर वीडियो शूट करने के बाद आपको स्क्रीन के ऊपर दाहिनी ओर नजर आ रहे स्माइली बटन को टैप करना होगा। वहीं पर, आपको दूसरी लाइन में 'म्यूजिक' बटन का ऑप्शन दिखाई देगा। उसे आप जैसे ही टैप करेंगे, वो आपको म्यूजिक मेन्यू के पास ले जाएगा जहां से आप अपनी पसंद के म्यूजिक को सेलेक्ट कर सकते हैं।

कई पॉपुलर म्यूजिक डिफॉल्ट हैं

अच्छी बात यह है कि ऐप डिफॉल्ट के तौर पर कई पॉपुलर म्यूजिक दिये गये हैं। इसके साथ ही एक टैब है, जिसकी मदद से आपको अपने मूड जैसे कि फन, ड्रिमी, सस्पेंस... वगैरह के हिसाब से म्यूजिक को सेलेक्ट करने में मदद मिलती है। इतना ही नहीं, अगर आपको कुछ अलग चाहिए हो तो भी आप उसे डायरेक्ट सर्च भी कर सकते हैं।

 

गाने की लंबाई और समय आपके हाथ में

जब आप अपना पसंदीदा म्यूजिक सेलेक्ट करते हैं तो इंस्टाग्राम इसे आपके फोटो या फिर वीडियो पर ऊपर से रख देता है। इसमें आपको यह कस्टमाइज करने की सुविधा मिलती है कि म्यूजिक को कहां से शुरू करना है या फिर इसकी लंबाई कितनी होनी चाहिए।

गाने के नाम और कलाकार के साथ स्टिकर

हालांकि अगर आप इसमें कुछ छेड़छाड़ नहीं करते हैं तो एक गाने को शुरू होने में करीब 7 से 8 सेकेंड का वक्त लगता है। आप इसे वेबपेज के किनारे पर लगे टाइम बटन को टैप करके 15 सेकेंड तक बढ़ा सकते हैं। एक बार पोस्ट हो जाने के बाद यह फीचर गाने के नाम और कलाकार के साथ आपकी स्टोरी के लिए एक स्टिकर भी ऐड करेगा, ताकि आपके दोस्त यह जान सकें कि वे क्या सुन रहे हैं।

यह भी पढ़ें:

अब 2G डाटा पर भी चला सकेंगे इंस्टाग्राम, लाइट वर्जन की टेस्टिंग शुरू

अब यूजर्स Instagram स्टोरी में कर पाएंगे शॉपिंग, जानें कैसे

 

देश में कई गुना बढ़े साइबर अटैक के मामले, चौथे स्थान पर पहुंचा भारत

Posted By: Sakshi Pandya