नई दिल्ली, टेक डेस्क। सोशल नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म Facebook फेक अकाउंट्स को लेकर काफी सजग हो गया है। कंपनी ने इस वर्ष 5.4 बिलियन फेक अकाउंट्स को अपने प्लेटफॉर्म से रिमूव कर दिया है। इस बात की जानकारी AFP (Agence France-Presse) के जरिए मिली है। वहीं, रॉयटर्स की एक रिपोर्ट में बताया गया है कि अप्रैल से सितंबर में यह आंकड़ा 3.2 बिलियन था। यानी इस दौरान कंपनी ने 3.2 बिलियन फेक अकाउंट्स को रीमूव किया है। अगर पुराने आंकड़ों की बात की जाए तो पिछले वर्ष इसी दौरान कंपनी ने 1.55 बिलियन अकाउंट्स रिमव किए थे।

क्या है Facebook का कहना: Facebook ने अपनी लेटेस्ट ट्रांसपेरेंसी रिपोर्ट में बताया है कि हमने फेक अकाउंट्स को बनाने की और उससे पहचानने की कोशिश की क्षमता को बेहतर किया है। इससे फेक अकाउंट्स से निपटने में मदद मिलेगी। डिटेक्शन सिस्टम की मदद से कंपनी हर रोज लाखों फेक अकाउंट्स को बनने से रोकती है। Facebook के मुताबिक, फेक अकाउंट वो होते हैं जिन्हें किसी व्यक्ति या संस्थान के नाम से बनाए जाते हैं जिनका वास्तविकता से कोई लेना-देना ही नहीं है।

फेक अकाउंट्स को हटाने के लिए किया गया निवेश: सोशल नेटवर्क ने लोगों को धोखा देने के लिए तैयार किए गए फेक अकाउंट्स को खोजने और उन्हें रिमूव करने के लिए भारी निवेश किया है। खासतौर से उन जगहों पर जहां राजनीतिक या सामाजिक एजेंडा को लेकर गलत खबरें फैलाई जाती हैं।

इससे पहले भी रिमूव किए हैं फेक अकाउंट्स: Facebook ने इससे पहले बताया कि साल की पहली तिमाही में 2.2 बिलियन फेक अकाउंट रिमूव किए थे। वहीं, वर्ष 2018 की आखिरी तिमाही में Facebook ने 1 बिलियन फेक अकाउंट्स और पहली तिमाही में 583 मिलियन फेक अकाउंट्स रिमूव किए थे। कई अकाउंट्स को उनके बनने के तुरंत बाद ही रिमूव कर दिया गया था।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस