नई दिल्ली, टेक डेस्क। WhatsApp की पैरेंट्स कंपनी Facebook की जल्द री-ब्रांडिंग होने जा रही है। ऐसे में Facebook को एक नये ब्रांड नेम से जाना जाएगा। इसका ऐलान अगले कुछ हफ्तों में हो सकता है। दरअसल Facebook कंपनी अपने कारोबार का तेजी से विस्तार कर रही है। इसके लिए कंपनी ने Google की तर्ज पर Facebook की री-ब्रांडिंग करने का निर्णय ले लिया है।  Facebook को नये ब्रांड नेम से पेश किये जाने से Facebook, Instagram और WhatsApp यूजर्स पर सीधे तौर पर कोई असर नहीं पडे़गा।

क्यों नाम बदलने की पड़ी जरूरत 

दरअसल Facebook की शुरुआत एक सोशल मीडिया कंपनी के तौर पर हुई थी। लेकिन मौजूदा वक्त में Facebook के तहत तमाम कंपनियां काम कर रही है। ऐसे में Facebook अपनी तमाम सहायक कंपनियों को एक ब्रांड नेम के तहत लाना चाहती है। इससे Facebook को अपने कारोबार को बेहतर ढ़ंग से आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी।

Facebook ऐसा करने वाली पहली कंपनी नहीं 

बता दें कि Facebook पहली ऐसी कंपनी नहीं है, जो अपना ब्रांड नेम बदलने जा रही है। इससे पहले साल 2016 में Google ने खुद की री-्ब्रांडिंग करते हुए इसे Alphabet कर दिया था, जिसके तहत मौजूदा वक्त में सर्च इंजन प्लेटफॉर्म Google और उसकी सहायक कंपनियां काम कर रही हैं। वही साल 2016 में Snapchat ने खुद की  री-ब्रांडेड करते हुए इसे Snap Inc नाम दिया था। ठीक इसकी तर्ज पर Facebook भी अपनी री-ब्रांडिंग करने जा रही है। ऐसे में Facebook और उसकी सहायक कंपनियां जैसे Instagram और WhatsApp एक नये ब्रांड नेम के अंतर्गत काम करेंगी। Facebook के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने 28 अक्टूबर के अपने सालाना कनेक्ट कांफ्रेंस से इस बारे में संकेत दिये थे। 

क्या होगा यूजर्स पर असर 

हालांकि Facebook की तरफ से फिलहाल इस बारे में कोई टिप्पणी करने से इनकार कर दिया गया है। बता दें कि Facebook में पहले से ही 10,000 से ज्यादा कर्मचारी हैं, जो नये-नये प्रोडक्ट जैसे AR Glasses पर काम कर रहे हैं। साथ ही खबर है कि Facebook की तरफ से स्मार्टफोन बनाने की दिशा में काम किया जा रहा है। इसके अलावा Metaverse पर काम कर रही है। ऐसे में Facebook अपने सभी कारोबार को बेहतर ढ़ंग से मैनेज करना चाहती है।

Edited By: Saurabh Verma