नई दिल्ली, टेक डेस्क। सोशल नेटवर्किंग साइट्स Facebook, Instagram और Tiktok यूजर्स की जासूसी का करने का आरोप दिग्गज टेक कंपनी Google पर लगा है। ऐसी खबर है कि Google अपने प्रतिद्वंदी ऐप यूजर की निगरानी कर रहा है। दरअसल Google अपने प्रोडक्ट को बेहतर बनाने के लिए नॉन गूगल ऐप पर यूजर के इंटरैक्शन पर इंटरनल प्रोग्राम के जरिए नजर रख रहा है। रिपोर्ट के मुताबिक इस प्रोग्राम को गूगल की तरफ से Android Lockbox नाम दिया गया है। इसके तरह Google के कर्मचारियों को डाटा एक्सेस करने की इजाजत दे दी गई है कि आखिर पॉप्युलर नॉन Google ऐप जैसे Tiktok, Facebook और Instagram पर एंड्राइड यूजर के विहेवियर को आंका जाता है।

बता दें जिस वक्त Youtube भारत में Tiktok की तरह ऐप लॉन्चिंग की तैयारी कर रहा है। ऐसे में Youtube की ओर से Tiktok इस्तेमाल करने वाले यूजर्स का डाटा एक्सेस किया जा रहा है। इस प्रोग्राम को Google Mobile Service (GMS) के जरिए अंजाम दिया जाता है। इसके तहत Google के कर्मचारी आसानी से दूसरे ऐप के सेंसटिव डाटा एक्सेस कर पाते हैं। उदाहरण के तौर पर किसी यूजर्स ने Tiktok को किस टाइम ओपन किया और कितनी देर तक इस्तेमाल किया। बता दें कि Google ओन्ड Youtube के शार्ट वीडियो ऐप को इस साल के अंत तक पेश किया जा सकता है।

Google एंड्राइड सेटअप प्रासेस के दौरान यूजर्स से इंफॉर्मेशन शेयर की इजाजत हासिल कर लेता है। वैसे तो गूगल की मानें, तो इस डाटा को रिसर्च के लिए उपलब्ध कराया जाता है। लेकिन कई यूजर्स के आरोप है कि Google डाटा को पर्सनल इस्तेमाल में भी लाता है। अमेरिकी सरकार की तरफ से सर्च फील्ड के जरिए एंटी मार्केट प्रैक्टिस अपनाने का आरोप लगाया है और मामले में पिछले साल टेक कंपनी के खिलाफ जांच के आदेश दिए थे। इस तरह के डाटा को इकट्ठा करने का काम केवल Google की तरफ से नहीं किया जाता है। साल  2017 में वॉल स्ट्रीट जनरल ने रिपोर्ट किया कि Facebook VPN सर्विस के जरिए अपने प्रतिद्वंदी ऐप यूजर्स की जानकारी इकट्ठा करता है।

(Written By- Saurabh Verma)

Jagran HiTech #NayaBharat सीरीज के तहत इंडस्ट्री के लीडर्स और एक्सपर्ट्स ने क्या कहा है, ये जानने के लिए यहां क्लिक करें।

Posted By: Renu Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस