नई दिल्ली, टेक डेस्क। अगर आप Google Chrome का इस्तेमाल करते हैं, तो सावधान हो जाएं, क्योंकि Google Chrome के नये एंड्राइड मैलवेयर की पहचान की गई है, जो साइबर हमलों के लिए जिम्मेदार है। यह एक तरह का फर्जी Google Chrome ऐप है, जिसे पिछले कुछ हफ्तों में काफी संख्या में डाउनलोड किया गया है। इस फर्जी Google Chrome ऐप को बैकिंग डिटेल चोरी करने के लिए बनाया गया है। इसका इस्तेमाल मोबाइल फ़िशिंग के लिए किया जा रहा है। साइबर सिक्योरिटी फर्म Pradeo की रिसर्च के मुताबिक इस फर्जी ऐप की पहचान Smishing Trojan के तौर पर की गई है। रिसर्च के दावों के मुताबिक फर्जी Google Chrome ऐप का इस्तेमाल मोबाइल अटैक कैंपेन के लिए किया जाता है, जो आपकी पर्सनल डिटेल जैसे क्रेडिट कार्ड पासवर्ड चोरी करने का काम करता है। 

ऐसे साइबर हमले को दिया जाता है अंजाम 

Chrome यूजर्स को एक पैकेज डिलीवरी का SMS भेजा जाता है, जिस पर क्लिक करते ही मैलवेयर Google Chrome को अपडेट करने के लिए कहता है। Google Chrome को अपडेट करने के लिए दिये गये लिंक पर क्लिक करते ही फोन में एक फर्जी Google Chrome ऐप इंस्टॉल कर दिया जाता है, जो एक तरह का मैलवेयर होता है। इसके बाद यूजर से पैकेज डिलीवरी के लिए 70 या फिर 150 रुपये का पेमेंट करने के लिए कहा जाता है। पेमेंट करते ही आपकी बैकिंग डिटेल चोरी कर ली जाती है। इसके बाद यूजर अपने मोबाइल पर कंट्रोल खो देता है और साइबर अटैकर 2 से 3 घंटों में आपके कॉन्टैक्ट के लोगों को 2000 SMS भेज देता है, जो है आगे साइबर हमलों में इस्तेमाल आता है। 

कैसे करें बचाव 

रिसर्चर की मानें, तो फर्जी Google Chrome मैलवेयर से बचने के लिए यूजर्स को ऐप को ऑफिशियल Google Play Store और Apple App store से ही डाउनलोड या फिर अपडेट करना चाहिए। साथ ही मोबाइल यू्जर्स को किसी अनजान व्यक्ति के मैसेज पर बैकिंग डिटेल नहीं साझा ना करें। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप