नई दिल्ली, टेक डेस्क। अगर आप ऐप्स या ऑनलाइन प्लेटफॉर्म से कर्ज लेते हैं, तो सावधान हो जाएं, क्योंकि केंद्र सरकार की तरफ से आज भारत में फर्जी लोन देने वाले ऐप की जानकारी दी गई है। जिसके मुताबिक भारत में करीब 600 से ज्यादा फर्जी कर्ज देने वाले ऐप्स मौजूद हैं। यह ऐप्स एपल ऐप स्टोर और गूगल प्ले स्टोर्स जैसे प्लेटफॉर्म पर डाउनलोड के लिए उपलब्ध हैं। केंद्र सरकार की तरफ से रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) की फाइडिंग रिपोर्ट के हवाले से फर्जी ऐप्स की डिटेल का खुलासा किया है।

फर्जी लोन ऐप पर कसेगा शिकंजा

देश में ऑनलाइन लोन देने वाले ऐप्स पर शिकंजा कसेगा। आरबीआई की ओर से जनवरी में गठित एक कमेटी ने ग्राहकों के हित की सुरक्षा के लिए एक नोडल एजेंसी के गठन का सुझाव दिया गया है।

फर्जी ऐप्स पर क्या हुई कार्रवाई 

सरकार से जब पूछा गया कि उनकी तरफ से इन अवैध ऐप के खिलाफ अब तक क्या कार्रवाई की गई। इस बारे में केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री ने लोकसभा में दिए लिखित जवाब में कहा कि इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ( MeitY) की तरफ से 27 गैरकानूनी कर्ज देने वाले ऐप्स को ब्लॉक करने का काम किया है। मंत्री ने बताया कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) की ओर से एक पोर्टल सचेत (Sachet) को स्थापित किया है। जहां पर फर्जी ऐप्स की शिकायत दर्ज करा सकते हैं। ऐसी फर्जी ऐप्स की जनवरी 2020 से मार्च 2021 के दौरान 2,562 शिकायतें मिली हैं।

अब तक मिली ऐसे ऐप्स की कितनी शिकायतें 

सचेत' पोर्टल पर, आरबीआई की ओर से फर्जी ऐप्स के खिलाफ शिकायतें कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय के लिए पंजीकृत संस्थाओं के रजिस्ट्रार को भेजी जाती हैं। साथ ही शिकायतकर्ता के राज्य के आर्थिक अपराध विंग को भेजी जाती हैं। आरबीआई ने 23 दिसंबर 2020 को लोगों को डिजिटल लोन प्लेटफॉर्म या मोबाइल ऐप की फ्रॉड से बचने की सलाह दी थी।

इन राज्यों में फर्जी लोन ऐप से हुआ सबसे ज्यादा फर्जीवाड़ा

  1. कर्नाटक
  2. दिल्ली
  3. हरियाणा
  4. तेलंगाना
  5. आंध्र प्रदेश
  6. यूपी
  7. पश्चिम बंगाल
  8. तमिलनाडु

ये भी पढ़ें - 

चोरी-छिपे कोई नहीं देख पाएगा WhatsApp स्टेट्स और लास्ट सीन

9000 रुपये की भारी छूट पर खरीदें iQOO 7 समेत ये चार धांसू फोन, यहां जानें पूरी डिटेल

Edited By: Saurabh Verma