नई दिल्ली, टेक डेस्क। पिछले कुछ दिनों में हमने Google Play Store पर बढ़ रहे मेलवेयर अटैक के बारे में सुना है। इन बढ़ते मेलवेयर अटैक के बीच Google ने Play Store से कई ऐप्स को हटाया भी है। यूजर्स की प्राइवेसी को देखते हुए इस ओपन सोर्स प्लेटफॉर्म ने अपनी सिक्युरिटी को और तेज कर दी है। Google Play Store पर से लगातार ऐसे ही खतरनाक ऐप्स को हटाए जा रहे हैं, लेकिन हैकर्स इस तरह के ऐप्स लगातारा Google Play Store पर डाल रहे हैं। ऐसा ही एक और नया मामला सामने आया है। टेक्नोलॉजी रिसर्च फर्म Upstream के रिसर्चर्स ने दावा किया है कि लोकप्रिय की-बोर्ट ऐप ai.type की-बोर्ड की वजह से यूजर्स के बैंक अकाउंट खाली हो सकते हैं।

Upstream के रिसर्चर्स का दावा है कि ये ऐप यूजर्स की जानकारी के बिना थर्ड पार्टी ऐप को सब्सक्राइब कर देता है, जो कि बैकग्राउंड में रन करता रहता है। इस थर्ड पार्टी ऐप की वजह से यूजर्स के ट्रांजैक्शन्स को भी रिकार्ड किया जा सकता है। रिसर्चर्स का दावा है कि इस ऐप के जरिए करीब 1.4 करोड़ थर्ड-पार्टी रिक्वेस्ट जेनरेट हुए हैं। इन रिक्वेस्ट को Secure-D प्लेटफॉर्म के जरिए ब्लॉक किया गया है।

रिसर्चर्स ने ये भी दावा किया है कि इस ऐप की वजह से 1.10 लाख से ज्यादा डिवाइस प्रभावित हुए हैं। इन सभी डिवाइसेज को स्क्रूटनी करके रिसर्चर्स ने ये रिपोर्ट बनाई है। Google ने इस ऐप को अपने प्ले स्टोर से जून 2019 में रिमूव कर दिया है। हालांकि, कुछ यूजर्स के स्मार्टफोन में यह ऐप्स अभी भी इंस्टॉल है और यूजर्स की प्राइवेसी डाटा को थर्ड-पार्टी को ट्रांसफर कर रहा है। अगर, आपके स्मार्टफोन में भी ये थर्ड पार्टी ऐप इंस्टॉल है तो उसे तुरंत डिलीट कर लें।

कैसे बचें?

अपने स्मार्टफोन से ऐप को अनइंस्टॉल करने के लिए यूजर्स ऐप पर लॉन्ग टैप करके अनइंस्टॉल कर सकते हैं। अगर, ऐप को अनइंस्टॉल करने में यूजर्स को कोई परेशानी आ रही है तो यूजर्स अपने फोन की सेटिंग्स ऑप्शन में जाकर ऐप्स ऑप्शन में जा सकते हैं। वहां, इस ऐप को सर्च करके अनइंस्टॉल कर सकते हैं। ऐप को अनइंस्टॉल करने के साथ-साथ यूजर्स को अपने स्मार्टफोन में एंटी वायरस भी डालना चाहिए, जो इस तरह के किसी भी मेलवेयर को डिएक्टिवेट कर देते हैं।

Posted By: Harshit Harsh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप