दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। Grahan 2020: ज्योतिष गणना के आधार पर आने वाले महीने में तीन ग्रहण पड़ने वाले हैं। इससे मानव जीवन पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ने वाला है। ऐसा विरले होता है, जब एक महीने में तीन ग्रहण पड़ते हैं। हालांकि, वैज्ञानिक सिद्धांतों के अनुसार भी ग्रहण शुभ नहीं होता है। खासकर जब एक साथ तीन ग्रहण पड़े तो यह और भी हानिकारक हो सकता है। ज्योतिष शास्त्र में ग्रहण दोष को दूर करने के लिए अनुष्ठान का विधान है। ऐसा कहा जाता है कि अनुष्ठान कर ग्रहण से होने वाली परेशानियों को दूर किया जा सकता है। आइए, जानते हैं कि आने वाले महीनों में कब-कब ग्रहण पड़ने वाला है। 

सबसे पहले चंद्र ग्रहण लगने वाला है

ज्योतिष गणना के अनुसार, ज्येष्ठ माह की पूर्णिमा यानी 5 जून की रात्रि में चंद्र ग्रहण लगने वाला है। यह ग्रहण रात्रि में 11 बजकर 15 मिनट से शुरू होकर मध्य रात्रि के 2 बजकर 34 मिनट तक रहेगा। यह एशिया, अफ्रीका, यूरोप महादेशों में देखा जाएगा। भारत में भी चंद्र ग्रहण दिखाई देगा।

21 जून को सूर्य ग्रहण लगेगा 

आषाढ़ अमावस्या को लगेगा यह ग्रहण आषाढ़ अमावस्या यानी 21 जून के दिन सुबह में 9 बजकर 15 मिनट से शुरू होकर दोपहर 3 बजकर 03 मिनट तक रहने वाला है। ग्रहण एशिया और यूरोप के देशों में देखा जाएगा।

5 जुलाई 2020 को चंद्र ग्रहण लगेगा

तीसरा ग्रहण आषाढ़ माह की पूर्णिमा यानी 5 जुलाई को लगेगा। यह ग्रहण भारतीय समयानुसार सुबह में 08 बजकर 37 मिनट से शुरू होकर 11 बजकर 22 मिनट तक रहेगा। यह ग्रहण एशिया महादेश में नहीं दिखाई देगा।

ग्रहण के समय इन चीजों को भूलकर न करें

-भोजन ग्रहण न करें।

-इस समय फल, फूल आदि चीजों को नहीं तोड़ना चाहिए।

-गर्भवती महिलाओं को लोहे की धातुओं को नहीं छूना चाहिए।

-ग्रहण के समय सोना भी निषेध है।

ग्रहण के समय क्या करें

-गरीबों को दान, गायों को घास और पक्षियों को चारा देना अति शुभ होता है।

Posted By: Umanath Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस