Sun of Kanya Sankranti: ज्योतिष गणना के अनुसार 17 सितंबर को सूर्य कन्या राशि में प्रवेश कर रहा है। इस घटना को कन्या संक्राति के नाम से जाना जाता है। सूर्य का एक राशि से दूसरी राशि में प्रवेश करने को संक्रांति कहा जाता है। सूर्य की इन संक्रांतियों का अन्य राशियों और उनके जातकों पर सकारात्मक और नकारात्मक दोनों तरह का प्रभाव पड़ता है। कन्या संक्रांति पर सूर्य अपनी स्वराशि सिंह को छोड़ कर कन्या राशि में प्रवेश कर रहे हैं। इसका प्रभाव कुछ राशियों के लिए नकारात्मक या नुकसानदायक हो रहा है। आइए जानते हैं उन राशियों और उन पर पड़ने वाले प्रभावों के बारे में....

1-मेष राशि –

सूर्य का कन्या राशि में प्रवेश मेष राशि के जातकों के लिए शुभ नहीं है। कन्या संक्रांति के कारण इस राशि के जातकों को अपने शत्रुओं और प्रतिस्पर्धियों से सावधान रहने की जरूरत है। ऑफिस पॉलिटिक्स भी इस काल में आपको नुकसान पहुंचा सकती है। कार्य क्षेत्र और घर-परिवार के झगड़ों से बच कर रहें।

2- मिथुन राशि –

कन्या संक्रांति के बाद सूर्य मिथुन राशि के चौथे भाव में आ रहा है। यह इस राशि के जातकों के लिए नकारात्मक संकेत बना रहा है। परिवार के प्रति सावधान रहने की जरूरत है। घर में तनाव की स्थिति उत्पन्न हो सकती है। गाड़ी चलाते समय विशेष ध्यान रखें, वाहन दुर्घटना होने की भी संभावना है।

3- तुला राशि –

तुला राशि के जातकों के लिए सूर्य का राशि परिवर्तन आर्थिक रूप से शुभ नहीं है। इस काल में इस राशि के जातकों को धन निवेश का जोखिम नहीं लेना चाहिए। आपके खर्चों में भी अप्रत्याशित बढ़ोतरी हो सकती है।

4- मकर राशि –

मकर राशि के जातकों के लिए कन्या संक्रांति स्वास्थ्य की दृष्टी से प्रतिकूल संकेत बना रही है। इस राशि के जातकों इस काल में अपने खान-पान का विशेष ध्यान रखना चाहिए। पेट संबंधी रोग होने की संभावना है, इसलिए तला-भुना, मसालेदार या बाहर का खाना खाने से बचें।

डिसक्लेमर

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।'

 

Edited By: Jeetesh Kumar