Move to Jagran APP

Shukra Uday 2024: शुक्र देव के उदय के साथ इस दिन से शुरू होंगे मांगलिक कार्य, जुलाई में 8 दिन बजेगी शहनाई

ज्योतिषियों की मानें तो लड़कों के विवाह के कारक शुक्र देव होते हैं। कुंडली में शुक्र मजबूत होने पर शीघ्र विवाह के योग बनते हैं। शुक्र कमजोर होने पर जातक को विवाह में नाना प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। सुखों के कारक शुक्र देव एक राशि में अधिकतम 25 दिनों तक रहते हैं। मीन राशि वालों को शुक्र देव हमेशा शुभ फल देते हैं।

By Pravin KumarEdited By: Pravin KumarThu, 20 Jun 2024 02:05 PM (IST)
Shukra Uday 2024: शुक्र देव के उदय के साथ इस दिन से शुरू होंगे मांगलिक कार्य, जुलाई में 8 दिन बजेगी शहनाई
Shukra Gochar 2024: 07 जुलाई को कर्क राशि में गोचर करेंगे शुक्र देव

धर्म डेस्क, नई दिल्ली। Shukra Uday 2024: ज्योतिष शास्त्र में शुक्र देव को सुखों का कारक माना जाता है। शुक्र देव वृषभ और तुला राशि के स्वामी हैं। मीन राशि में शुक्र देव उच्च के होते हैं। इसके लिए मीन राशि के जातकों पर शुक्र देव की विशेष कृपा बरसती है। शुक्र देव की कृपा से मीन राशि के जातक को जीवन में सभी प्रकार के सुखों की प्राप्ति होती है। इसके लिए कुंडली दोष रहित होना अनिवार्य है। वर्तमान समय में शुक्र देव मिथुन राशि में विराजमान हैं। इस राशि में शुक्र देव 07 जुलाई तक रहेंगे। इसके बाद शुक्र देव राशि परिवर्तन करेंगे। इससे पूर्व यानी पहले शुक्र देव 28 जून को उदित होंगे। इसके चार दिन बाद से विवाह समेत सभी प्रकार के मांगलिक कार्य किए जाएंगे। आइए, शुक्र उदय के बारे में सबकुछ जानते हैं-

यह भी पढ़ें: जानें, क्यों काल भैरव देव को बाबा की नगरी का कोतवाल कहा जाता है ?

शुक्र गोचर

सुखों के कारक शुक्र देव वर्तमान समय में मिथुन राशि में विराजमान हैं। वहीं, शुक्र देव 07 जुलाई को मिथुन राशि से निकलकर कर्क राशि में गोचर करेंगे। इस दौरान शुक्र देव 28 जून को पुनर्वसु नक्षत्र में गोचर करेंगे। इसी दिन शुक्र देव उदित होंगे।

शुक्र उदय

ज्योतिषियों की मानें तो सुखों के कारक शुक्र देव 28 जून को उदित होंगे। इससे पूर्व 25 अप्रैल को शुक्र देव अस्त हुए थे। वहीं, 22 अप्रैल से लेकर 25 अप्रैल तक वृद्धत्व रूप में थे। अतः 25 अप्रैल से सभी प्रकार के मांगलिक कार्यों पर रोक लग गई थी। वहीं, 28 जून को शुक्र देव उदित होने के बाद अगले चार दिनों तक शिशुत्व रूप में रहेंगे। शुक्र देव के अस्त होने के साथ-साथ बाल एवं वृद्धत्व रूप में रहने के दौरान मांगलिक कार्य नहीं किए जाते हैं। खासकर, विवाह तो पूर्णतया वर्जित है। ज्योतिषीय गणना के अनुसार, शुक्र देव 28 जून से लेकर 02 जुलाई तक शिशुत्व रूप में रहेंगे। अतः 02 जुलाई तक मांगलिक कार्य करने की मनाही है।

विवाह मुहूर्त

शुक्र देव के उदित होने के बाद पूर्णतया यौवनत्व रूप प्राप्त करने के बाद से मांगलिक कार्य किए जाएंगे। शुक्र देव 28 से लेकर 02 जुलाई तक शिशुत्व रूप में रहेंगे। वहीं, 03 जुलाई को यौवनत्व रूप प्राप्त करेंगे। अतः 03 जुलाई से मांगलिक कार्य किए जाएंगे। वहीं, जुलाई महीने में विवाह लग्न मुहूर्त 03 , 04,  09 , 11, 12 , 13 , 14 एवं 15 जुलाई को है। अति आवश्यक होने पर विवाह के लिए 02 जुलाई का चयन कर सकते हैं। ज्योतिष शास्त्र में मंगलवार के दिन विवाह न करने की सलाह दी जाती है।

यह भी पढ़ें: कब है सावन महीने की पहली एकादशी? नोट करें सही डेट, शुभ मुहूर्त एवं योग

अस्वीकरण: इस लेख में बताए गए उपाय/लाभ/सलाह और कथन केवल सामान्य सूचना के लिए हैं। दैनिक जागरण तथा जागरण न्यू मीडिया यहां इस लेख फीचर में लिखी गई बातों का समर्थन नहीं करता है। इस लेख में निहित जानकारी विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों/दंतकथाओं से संग्रहित की गई हैं। पाठकों से अनुरोध है कि लेख को अंतिम सत्य अथवा दावा न मानें एवं अपने विवेक का उपयोग करें। दैनिक जागरण तथा जागरण न्यू मीडिया अंधविश्वास के खिलाफ है।