Sawan 2021 : सावन का महीना आरंभ हो चुका है। हिंदू धर्म में इस मास का बहुत अधिक महत्व है। भगवान शिव को सावन बहुत ही प्रिय है। सावन में भगवान शिव की विशेष रूप से पूजा अर्चना की जाती है। सावन की पूजा से शनिदेव की कुदृष्टि से बचा जा सकता है। भगवान शिव ने शनिदेव को न्याय के देवता के साथ-साथ कर्मफल का देवता भी कहा है। मान्यताओं के अनुसार शनि देव भगवान शिव के भक्तों पर कुदृष्टि नहीं डालते हैं। सावन में कुछ ऐसे उपाय हैं, जिन्हें करने से आप शनि के दोष से बच सकते हैं। आइये जानते हैं सावन में शनिदेव को प्रसन्न करने के उपाय

सावन के शनिवार को करें ये उपाय

1. सावन मास के शनिवार को सायंकाल स्नान करके नीले सफेद रंग का वस्त्र धारण करना चाहिए। इसके बाद तांबे के लोटे में जल के साथ काले तिल डालकर शिवलिंग पर जलाभिषेक से करने से शनि दोष से छुटकारा मिलता है।

2. सावन मास के प्रत्येक शनिवार के दिन शाम में पीपल वृक्ष के नीचे सरसों के तेल का दिपक और जल में तिल मिलाकर जलाभिषेक करने से शनि के प्रकोप से बचा जा सकता है। 

3. सावन के शनिवार के दिन शनिदेव के साथ-साथ शिव की अराधना करने से जीवन में शनि दोष से छुटकारा मिलता है।  शनिदेव स्वयं भगवान शिव की पूजा करते हैं।

4. सावन में प्रत्येक शनिवार के दिन प्रभु शिव को अत्यंत प्रिय रुद्राक्ष की माला के द्वारा शनिदेव के मंत्र का जाप करना चाहिए। इस उपाय से शनि दोष से मुक्ति मिलती है।

सावन में भगवान शिव की कृपा से शनिदोष से बचना आसान है। बस उपर्युक्त उपायों को विधि पूर्वक करना है। इससे जीवन में खुशहाली, सुख, शांति का आगमन होता है। 

डिसक्लेमर

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।'

Edited By: Ritesh Siraj